Appendix ke Symptoms (Lakshan) aur Treatment (Ilaj)

By | February 20, 2016

Kya aap Appendix ke symptoms ya iske treatment ki jankari janana chahate hai? Janiye iska ayurvedic ya desi gharelu ilaj aur iske lakshan taki sahi samay par upchar kiya jaa sake. Appendix पेट में right side छोटी और बड़ी आंत के बीच में 2 से 4 inch का एक part होता हैं। Iske symptoms yani lakshan aur treatment yani ilaj ab aap gharelu upay apnakar thik kar sakte hain. यह body में Cellulose को digest करने का काम करती हैं। इसी appendix में जब किसी तरह का Infection हो जाता है तो उसके कारण उसमे swelling हो जाता है जिसे Appendicitis कहते है। time पर इसका treatment नहीं करवाने से इसमें पस भर जाता है  जिसे Appendicular lump कहते हैं। ऐसी स्तिथि में मरीज को फ़ौरन हीं operation करवाना पड़ता हैं। time पर operation ना होने पर lump फटकर पुरे पेट में infection फ़ैल जाता है और रोगी की condition गंभीर हो जाती है । appendix का दर्द अचानक से कभी भी उठ सकता है । ज्यादा परेशानी होने पर operation के द्वारा इसे  को निकाल दिया जाता है।

This is how Appendix looks like

Research के मुताबिक doctors को पता चला है की शरीर को निरोग बनाए रखने के लिए शरीर में appendix का होना जरूरी होता है। long time तक constipation रहना, आंतों की बीमारी आदि के कारण  appendix की नाली में रुकावट आ जाती है जिसके कारण लोग इसका शिकार हो जाते है।

अपेंडिक्स के लक्षण / Symptoms of Appendix 

Agar initial stage mein he dhyan diya jaye to appendix ke lakshan ko pahchana jaa sakta hai aur sabhi dekhbhal aur upchar kar ke appendix se chutkara paya jaa sakta hai. To chaliye jante hai wo kaun kayn se common symptoms hai iske:

नाभि के आसपास तेज दर्द – इसका सबसे पहला लक्षण होता है पेट के right side में pain होना। ये दर्द पेट के नाभि (Navel)के निचे या फिर उसके अगल बगल होती है। appendix वाले जगह पर touch करने से भी रोगी को तेज दर्द होता है । जब ये दर्द बहुत ज्यादा बढ़ जाता है तो  operation करवाना जरुरी हो जाता है। अतः ऐसे symptoms दीखते हीं doctor से checkup करवा लेना चाहिए।

जी मचलाना  उल्‍टी आना – इसका  का दूसरा लक्षण होता है उल्टी होना । इससे पीड़ित मरीज को पेट में pain होने के साथ साथ उल्टी यानि की vomiting भी होने लगता है । इसके मरीज का किसी भी time अचानक से मन मिचलाता रहता है। इसलिए जैसे हीं ये  लक्षण सामने आए doctor से जरुर contact करे ।

भूख कम लगना  – इसके मरीज को भुख भी कम लगने लगती है । इसके मरीज को पेट दर्द होता रहता है जिसके वजह से कुछ भी खाने को जी नहीं करता है । भुख कम लगना भी इसका ही एक क्लू हो सकता है ।

जुलाब होना (Loose Motions) बहुतों को इसके होने पर loose motion होने लगता है ।  इसके मरीज को कुछ भी खाना digest नहीं हो पता जिसके वजह से उन्हें बार बार loose motion हो जाता है। ऐसे loose motion ke lakshan को अनदेखा ना करे और फ़ौरन हीं किसी doctor की सलाह लें ।

बुखार होना – जब पेट में infection बहुत ज्यादा बढ़ जाता है तो बहुतो को पेट दर्द के साथ fever भी आने लगता है जो की इसका क्लू हो सकता है। पेट दर्द के साथ बुखार आने पर doctor से फ़ौरन हीं मिल लेना चाहिए ।

अपेंडिक्स का इलाज / Appendix Treatment

Agar aap Appendix ke liye Ayurvedic ya desi gherulu ilaj khoj rahe hai to niche diye gaye upay se aap iska initial stage par treatment kar sakte hain. Dhyan rahe ki aapne doctor se salah lena nahi bhule.

वैसे तो appendix का इलाज operation हीं होता है फिर भी अगर आप चाहे तो इसका treatment घर पर भी कर सकते है। अगर starting में हीं इसके का lakshan समझ में आ जाये तो इस बीमारी को आप कुछ gharelu upchar से भी ठीक कर सकते है । तो चलिए जानते है इसे हम किन किन घरेलु उपचार से ठीक कर सकते है ।

Appendix ka ilaj desi nuskhe se


तुलसी – Patient को अगर हल्‍का fever आता है तो उसे तुलसी द्वारा ठीक किया जा सकता है। ½ glass water में 10-15 तुलसी के पत्ते और एक spoon कटी हुई आदि(ginger) को   डाल कर उसे 10 से 15 मिनटों तक boil कर लें और फिर उसे छान कर दिन में 2 times चाय की तरह पिएं। इससे patient को fever में relief मिलता है ।
अदरक (ginger) –  मरीज को  अदरक का सेवन से पेट का pain और सूजन(swelling) में relief मिलता है। ½ glass water में 1 spoon अदरक को कुच उसे 10 minute तक boil करे । अब अदरक से बनी इस चाय को मरीज को regular दिन में at-least 2 और 3 times पीयें ।

मेथी दाना –  ½ glass water में 2 spoon मेथी के दाने को mix कर के 15 minutes के लिए boil कर लें । अब इसे छान कर दिन में at-least 1 time जरुर से पियें। इससे मी pain और swelling में relief मिलता है ।

अलोएवेरा जेल (Aloe Vera Gel) – इसके patient को aloe vera का use करना चाहिए । ये उन्हें पाचन प्रणाली व पौष्टिकता प्रदान करता है साथ हीं उन्हें कब्ज से दूर रखता है जो की इस बीमारी का main कारणों में से एक होता है ।

पुदीना (mint) – इसमें mint के सेवन से गैस, pain, vomiting, आदि में  relief मिलता है। ½ glass water में 1 spoon mint के fresh पत्ते को डाल कर उसे 5 से 10 minutes तक boil कर लें और फिर उसे छान कर उसमे 1 spoon honey mix कर के पीएं। week में 3 से 4 times इसे पीने से patient को relief मिलता है ।

दूध(milk) –  दूध(milk) को boil कर के उसे ठंडा कर के पीने से भी patient को फायदा होता है  ।

अपेंडिक्स में क्या और क्या नहीं खाना चाहिये 

किसी भी बीमारी को जल्द से जल्द ठीक करने के लिए मनुष्य के द्वारा ली जाने वाला भोजन काफी कारगर शिद्ध होता है | बीमार मनुष्य के शरीर में प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए रखने के लिए उचित पोष्टिक आहार लेने की आवश्यकता होती है | कभी कभी पोष्टिक आहार हमारे शरीर को पुनः स्वस्थ होने में काफी मददगार शाबित होता है | आइए जानते है बीमारी के दौरान ली जाने वाली पोष्टिक भोजन के बारे में |

यह बीमारी मानव के आंत में होती है | मानव शरीर में कई प्रकार के जटिल अंग है जिसमे से एक यह बीमारी भी है | यह हमारे बड़ी आंत और छोटी आंत के संगम पर एक पुच्छ के सामान्य होती है जिसमे सुजन आ जाने से पेट में दर्द उत्पन्न हो जाता है | इस बीमारी में हमे अपने भोजन पर काफी सावधानी रखना पड़ता है | तो आइए आज जाने Appendix में क्या भोजन लेना चाहिए |

Appendix me kya khana chahiye

अगर आप इस बीमारी से ग्रषित है और और आपका इलाज चल रहा है तो आपको अपने स्वास्थ को जल्द से स्वस्थ करने के लिए दवा के साथ पोष्टिक आहार लेना काफी आवश्यक होता है |

  • मरीज स्वयं को स्वस्थ करने के लिए पोषक तत्वों का ग्रहण करे|
  • मरीज को ज्यादा से ज्यादा फाइबर्स यूक्त भोजन देना चाहिए | फाइबर्स यूक्त भोजन हमारे पाचन क्रिया को संतुलित बनाए रखता है |
  • मरीज को रोजाना ताजे फल एवं सब्जियों का सेवन करना चाहिए |
  • मरीज को तेल मसाले का भोजन से परहेज करना चाहिए | कोशिस करे की ज्यादा से ज्यादा उबला खाना खाए |
  • हल्का भोजन करे जिसे आसानी से पचाया जा सके |

Appendix me kya nahi khana chahiye

इससे ग्रषित व्यक्ति को अपने खान पान में काफी सावधानी रखना आवश्यक है | बीमार शरीर में अगर आप अपने खाद्य प्रदार्थ पर सावधानी नहीं बरते तो यह आपके समस्या को बाधा सकता है | इसलिए बीमारी के दौरान निम्न बातो पर अवश्य ध्यान दे |

  • डॉक्टर के द्वारा बतलाए गये बातर खाद्य प्रदार्थ का सेवन नहीं करे |
  • बासी या बच्चा हुआ खाना नहीं खाना चाहिए |
  • कच्चा या आधा पका हुआ भोजन का सेवन नहीं करे |
  • मांस का सेवन नहीं करे |
  • ज्यादा तेल मशाला का सेवन नहीं करे |

2 thoughts on “Appendix ke Symptoms (Lakshan) aur Treatment (Ilaj)

  1. ved prakash

    Sir nabhi ke bai taraf thoda uper ek nas jesi. Fool jaati h. Or esa lagata h ye fategi 5. 10 sec me normal ho jata h. Kya ye. Apendex ho sakti h

    Reply
  2. sachin

    I also pain in stomach but it is on left side.
    Pls answer me

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *