Aravali Mountain Range Information in Hindi – अरावली पर्वत

By | January 5, 2017

Kya aapko malum hai Aravali Mountain se judi rochak jankari ke bare mein? Janiye अरावली पर्वत से जुडी information, interesting facts, और history के बारे में | संसार के प्राचीन पर्वत श्रृंखला में से एक है अरावली पर्वत श्रृंखला | अरावली पर्वत श्रृंखला भारत के पश्चिमी भाग में स्थित है | यह भारत के पश्चिम में गुजरात से फैलकर राजस्थान, हरयाणा होते हुए दिल्ली के दक्षिणी भाग तक फैला हुआ है | अरावली की कुल लम्बाई लगभग 692 km है, जो राजस्थान को दो भाग में विभाजित करता है अरावली के दक्षिणी भाग में थोड़ी हरियाली पाई जाती है, इस हिस्से में कुछ वन की मौजूदगी है अन्यता इसके अलावे इसके अन्य हिस्से रेतीला एवं पथरीला है | अरावली की सबसे उच्चे पर्वत श्रृंखला गुरुशिखर है जिसकी उच्चाई 1727 m है | यह श्रृंखला माउन्ट आबू में स्थित है |

Aravali Mountain detail in Hindi

अरावली पर्वत से जुडी जानकारी / Aravali Mountain Information

अरावली भारत का सबसे प्राचीन पर्वत है, इस पर्वत का उत्तरी छोर हरयाणा में पहाड़ और पथरीली लकीर के रूप में फैला हुआ है और इसका उत्तरी छोर दिल्ली को छूता है | इस पर्वत श्रृंखला का अत्यधिक विस्तार राजस्थान में है | राजस्थान में इसका विस्तार इसके कुल विस्तार का 80% है, इसकी सर्वाधिक उच्चाई दक्षिणी हिस्से में है | भारत की राजधानी दिल्ली में बनी राष्ट्रपति भवन रायशेला पहाड़ी पर बना हुआ है जो अरावली पर्वत श्रृंखला में स्थित है | अरावली पर्वत श्रेणी Quartz Reef से निर्मित है | इस पर्वत श्रृंखला में कई प्रकार के खनिज पाए जाते है जिसमे सीसा, तांबा, जस्ता आदि खनिज अत्यधिक मात्रा में पाए जाते है | अरावली को विभिन्न स्थानों पर विभिन्न नामो से जाना जाता ही जैसे जयपुर में इसे जग्गा, अलवर के पास हर्षनाथ एवं दिल्ली के नजदीक इसे दिल्ली के पहाडियों के नाम से जाना जाता है | अरावली भारत को तीन भाग में विभाजित करता है दक्षिणी अरावली प्रदेश मध्य अरावली प्रदेश एवं उत्तरी अरावली प्रदेश |


  • दक्षिणी अरावली प्रदेश – दक्षिणी अरावली प्रदेश में सिरोही, उदयपुर और राजसमन्द जिला शामिल है | यह हिस्सा पूर्णतः पर्वतीय क्षेत्र है एवं इस हिस्से में पर्वत सबसे अधिक घना और सबसे उच्चा है |
  • मध्य अरावली प्रदेश – मध्य अरावली प्रदेश अजमेर जिले में पाया जाता है | इस हिस्से में बहुत ही संकीर्ण घाटी और समतल स्थल पाए जाते है |
  • उत्तरी अरावली प्रदेश – उत्तरी अरावली प्रदेश का विस्तार जयपुर, दौसा के साथ साथ अलवर जिले में पाए जाते है | इस क्षेत्रो में अरावली की पर्वत श्रेणी दूर दूर होती है एवं इस श्रेणी में शेखावाटी की पहाड़िया, तेरावती की पहाड़िया एवं जयपुर और अलवर की पहाड़ियाँ शामिल है |

अरावली में पाए जाने वाले खनिज तांबा की खुदाई कई शादियों से चलती आ रही है | इन इलाको में mining इतना अधिक हो गया था की इस क्षेत्र को अति पारिस्थितिकी संवेदनशील क्षेत्र घोषित कर दिया गया है और साथ ही सर्वोच्च न्यायालय इन इलाको में mining करने पर रोक लगा दी गई है | अरावली पर्वत श्रृंखला में मौजूद वन थार मरुवस्थल के climate को maintain करने में अहम् भूमिका निभाती है | अरावली के वन क्षेत्र में राजस्थान और गुजरात के कई सारे हिल क्षेत्र इसमे सम्मिलित है | इस वन क्षेत्र में कई ऐसे नदी तालाब और झील है जो इसके खूबसूरती को चार चाँद लगा रहे है |

Interest Facts about Aravali Mountain

  • आपको जान कर हैरानी होगी की अरावली पर्वत लगभग 692 km में फैला हुआ है |
  • असल में अरावली का मतलब होता है पहाड़ो का समूह जिसे English में Lines of Peaks बोला जाता है |
  • इसके अलावे अरावली पर्वत भारत का सबसे प्राचीन पहाड़ो में गिनती होती है |
  • सबसे बड़ी अरावली पर्वत की सिखर (height) लगभग 5,650 ft है |
  • यह पर्वत गुजरात से लेकर नयी दिल्ली तक फैला हुआ है |
  • Supreme Court ने अरावली पर्वत के आस पास खनन कार्य पर रोक लगा दी है, ताकि इसकी संरचना पर कोई प्रभाव ना पड़े |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *