Baby Malish Health Benefits – शिशु की मालिश

By | October 4, 2017

छोटे शिशु की मालिश की सलाह हमेशा दे जाती है पर क्या आप जानते है इसके फायदे के बारे में ? जानिए नवजात बच्चे की massage कैसे की जाती है और इसकी health benefits से जुडी जानकारी के बारे में | जैसा की हम सभी जानते है की नवजात शिशु का शरीर काफी नाजुक होता है | इनके इस नाजुक शरीर को स्वस्थ एवं मजबूत बनाने के लिए घर के सभी सदस्य का अपना अपना विचार होता है | पर बच्चे के शरीर को स्वस्थ एवं मजबूत बनाने के लिए शिशु के शरीर का मालिश करना बेहद आवश्यक है | बच्चो के शरीर पर इसके करने से इनका शरीर का मांसपेशी एवं हड्डी मजबूत होता है और अच्छा विकाश भी होता है | इसलिए इस बात के लिए डॉक्टर का भी परामर्श होता है की बच्चे को दिन भर में कम से कम दो से तीन बार की मालिश दे | बच्चे के शरीर में होनी वाली यह मालिश उनके शरीर के लिए फायदेमंद होता है |

Baby Malish in Hindi

Baby Malish

शिशु के शरीर का मालिश करने की परम्परा हमारे पूर्वजो के समय से चलता आ रहा है | यह परंपरा एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को विरासत के रूप में दिया जाता है | और बिरासत रूप में मिली इस परम्परा को अच्छे से निभाया जाता है | शिशु के शरीर का मालिश करने से बच्चे के शरीर का मांसपेशी को आराम मिलता है और बच्चे का शरीर भी दर्द आदि से दूर रहता है | बच्चे के शरीर पर सरसों के तेल से मालिश करने से उनके शरीर में उत्पन्न हो रहे आक्सीटॉसिन हॉर्मोन को बढ़ावा देता है |

छोटे बच्चे की मालिश के तरीके

आप यह अक्सर देखते होंगे की नवजात शिशु के शरीर का मालिश किसी वृद्ध महिला के द्वारा किया जाता है | नवजात शिशु का शरीर काफी नाजुक होता है इसलिए इसे सही तरीको से करना अनिवार्य होता है | अगर आप शिशु के शरीर का मालिश गलत तरीको से करते है तो यह शिशु के लिए कष्टदायक हो सकता है इसलिए अगर आप शिशु को मालिश करने के तरीको को नहीं जानते तो नहीं करे | आइए आज आपको हम बताते है इसे सही से करने का तरीका |


  • मालिश करने के लिए ऐसा स्थान का चयन का कर जह आप लम्बे समय तक आराम से बच्चे को ले कर बैठ सकते है |
  • बैठ कर दोनों पैरो को आगे की और फैला ले और दोनों पैरो के बिच में बच्चे को लिटाए |
  • अब तेल को हाँथ में ले और दोनों हाँथ को आपस में रगड़ कर हल्का गर्म करे और इसकी शुरुआत शिशु के पैर से करे |
  • पैर का मालिश करने के उपरांत हांथो की massage करे और फिर पेट और छाती का करे |
  • छाती का होने के उपरांत बच्चे को पेट के बल अपने पैर पर सुला दे और उसके पीठ पर हलके हाथों से तेल लगाया करे |
  • पीठ की होने के बाद बच्चे के सर पर हलके हाथों से  मालिश करे |

मालिश के लिए उपर्युक्त तेल

इस शब्द कान में पड़ते ही हमारे दिमाग में यह बात दौड़ता है की बच्चे को मालिश किस तेल से करना चाहिए या कौन सा तेल शिशु के शरीर के लिए लाभप्रद होगा | शिशु के शरीर में आप सरसों, बादाम, जैतून, नारियल या कैस्टर के तेल का इस्तेमाल कर सकते है | ये सभी तेल बच्चे की त्वचा मांसपेशी एवं हड्डियों के लिए लाभदायक है |

मालिश करने के फायदे

बच्चो के शरीर में इससे उनके शरीर को कई फायदे पहुचाती है | बच्चे के उत्तम विकाश के लिए इनके शरीर का मालिश करना आवश्यक है | इससे शिशु के होने वाले फायदे निम्नलिखित है :-

  • इससे बच्चे की मांसपेशियों की थकान मिटती है और बच्चे को आराम मिलता है |
  • अगर बच्चे के पसलियों में दर्द है या थकान है तो मालिश उनके शरीर को आराम दिलाता है |
  • बच्चो के शरीर का रोजाना तेल लगाने  से उनके शरीर का रक्त संचार बदता है जिससे उनके शरीर के माँसपेशियाँ स्वस्थ रहती है एवं बच्चा का विकाश अच्छे से होता है |
  • बच्चे के शरीर में रोजाना प्रयोग करने से  उनके त्वचा को आकर्षक एवं सुन्दर बनाती है |
  • इसे रोजाना प्रयोग में लाने से बच्चे के body parts मजबूत होते हैं |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *