Bela Flower Information in Hindi – बेला का फूल

By | September 13, 2017

क्या आप भी Bela के flower के बारे में Hindi में जानकारी खोज रहे हैं? जानिए इस फूल से जुडी information, इसके uses और medicine field में इस्तेमाल के बारे में | पृथ्वी पर 50,000 तरह के फूल पाए जाते हैं और ये सभी फूल अपने – अपने विशेषताओं के लिए जाने जाते है, सभी फूलो का अपना अपना एक महत्व होता है और उसी के अनुसार उन फूलो को प्रयोग में लाया जाता है | इन सभी पौधों में कुछ पौधे मौसमी हैं, जो की सिर्फ एक विशेष मौसम में ही खिलते हैं, लेकिन कुछ फूल ऐसे भी हैं जो सभी मौसमों में खिलते हैं ।

Meaning of Bela Flower in hindi

पृथ्वी में 50,000 के प्रजातियों में पाई जाने वाली फूलों में एक प्रजाति बेला भी है इस फूल को मोगरा फूल के नाम से जाना जाता है | यह एक झाड़ीनुमा पौधा है, लेकिन इस झाड़ियों में लगने वाले फूल अपनी खुशबू के लिए प्रसिद्ध है | बेला के पौधों में धुप की किरणे पड़ते ही पौधों में कोपले आने लगती है, और धीरे धीरे खिल कर यह सुंदर फूल बन कर अपनी सुंदर खुशबू को बिखेरता है | जैसे जैसे गर्मी बढती है इस फूल की खुशबू भी बढती जाती है, इसकी खुशबू आते ही हमारा मन तरोताजा महसूस करने लगता है | यह फूल सफ़ेद रंग का होता है जो की वसंत ऋतु से लेकर वर्षा ऋतु तक खिला रहता है, और यह पौधा भारत के लग-भग सभी घरों में पाया जाता है

Uses


बेला फूल देखने में जितना आकर्षक और खुशबूदार दिखता है, उतना ही उपयोगी पौधा भी है | यह फूल जितना अपनी खुशबू के लिए सुप्रसिद्ध है उतना की यह अपने औष्धिय गुण के लिए भी जाना जाता है | इस फूल  का जितना मूल्य है शायद ही किसी और फूल का होगा | बेला का फूल  सरस्वती की पूजा के दौरान इस्तेमाल किया जाता है, इसके अलावा इस फूल का इस्तेमाल गजरा बनाने के लिए किया जाता है जो महिलायें अपने बालो में लगाती है | इस फूल  को भारत में सादगी, पवित्रता, विनम्रता और शुद्धता का प्रतिक समझा जाता है | इसके अलावा इस फूल का इस्तेमाल अनेक तरह के चिकित्सा के लिए किया जाता है |

बेला फूल के आयुर्वेदिक और औष्धिय गुण

  • दाद, खुजली,फोड़े- फुंसियों के इलाज के लिए बेला के पौधे का इस्तेमाल किया जा सकता है | इसके पौधा के पत्तियों को पिस कर इसे दाद, खुजली,फोड़े- फुंसियों में लगाने से लाभ मिलता है |
  • पेट के गैस को दूर करने के लिए इस पौधे का इस्तेमाल किया जा सकता है | बेला के दो पत्तियों को काला नमक के साथ सेवन करने से गैस से राहत मिलता है |
  • बेला के फूल  का इस्तेमाल एरोमा थेरेपी के लिए किया जाता है, क्योकि इस फूल  की खुशबू हमारे मन को शांति प्रदान करती है और हमारे अंदर उत्साह भरती है जिससे हम तरोताजा महसूस करते हैं |
  • बेला के फूल से बने इत्र का इस्तेमाल कान दर्द के उपचार के लिए किया जाता है |
  • इस पौधे के पत्तियों का चाय बना कर पीने से बुखार,इन्फेक्शंस और मूत्र संबंधि रोगों से फायदा मिलता है | इसके साथ ही रोजाना इसका चाय पीने से cancer बीमारी से बचा जा सकता है |
  • मोगरे की पत्तियों को पिस कर पुराने घावों में लगाने से घाव ठीक हो जाता है |
  • एक कप पानी में मिश्री ओर मोगरे के 4 से 5 पत्तियों को पिस कर मिला कर पीने से दस्त की समस्या से छुटकारा मिलता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *