भाग्य रेखा के पहलू – Bhagya Rekha

By | April 16, 2016

भाग्य रेखा (Bhagya Rekha) हाथ की वह रेखा (line) है जो आपके भाग्य की जानकारी देती है, या यह कह लिया जाये की यह आपका भाग्य तय करती है। भाग्य सिर्फ एक रेखा से ही नहीं तय होता बल्कि  इसके पीछे बहुत सी और भी कारण होते हैं, जैसे आपका परिश्रम, जुझारूपन इत्यादि । परंतु भाग्य रेखा आपको एक सही तरीका बताती है अपने भाग्य को जानने के लिए इस रेखा से हम उन सभी कार्यों की क्षमतों को बताता है, जैसे शिक्षा (education), करियर (career) में सफलता और विफलता होने पर लिए जाने वाले निर्णय और जिन्दगी की अनेक बाधाओं से अवगत करवाता है। To chaliye jante hai Bhagya Rekha se judi jankari aur kuch secret information.

Bhagya Rekha at Palm

भाग्य रेखा कहाँ होती है? / Where is Bhagya Rekha

In short the location of Bhagya Rekha is located in between the 2 big curve lines on plan. भाग्य रेखा हृदय रेखा(पन्जा) के मध्य से शुरु होकर कलाई तक जाती है। यह रेखा वह हस्त रेखा है जो अधिकतर मध्यमा या शनि पर्वत से शुरू होती है, जिसे भाग्यस्थान भी कहा जाता है उसे ही भाग्य रेखा कहते हैं। आप ऊपर दिए गए picture से भी bhagya rekha को पहचान सकते हैं |

देखा जाए तो bhagya rekha दो तरफ (ways) में जा सकती है:

पहला – या तो सीधे शनि छेत्र में या फिर बिच में ही रह जाती है. अगर आपकी रेखा अगर पूरी की पूरी शनि छेत्र में चली जाती है तो यह Shani Rekha भी कहलाती है |

दूसरा – या तो यह बिच में जा कर बृहस्पति के छेत्र में सीधे चली जाती है, अगर ऐसा होता है तो उस रेखा वाले मनुष्य बहुत ही महत्वकांक्ष वाला होता है |

भाग्य रेखा के आकार और प्रकार / Types of Bhagya Rekha

  • भाग्यरेखा का अधिक गहरा (deep) और लंबा (long) होना यह दर्शाता है की आपका भाग्य अच्छा होगा । लेकिन भाग्य रेखा का फीका या कटा होना अच्छा नहीं माना जाता है।
  • भाग्य रेखा अगर किसी जगह कट रही है तो उस वर्ष आपको financial loss हो सकता है।
  • अगर रेखा अधिक जगह से कटी है परंतु वह ह्रदय रेखा से कलाई तक है, तो इसका कुछ ख़ास असर नहीं होता यह बस यह दर्शाती है की अलग अलग समय भाग्य आपका साथ छोड़ता है।
  • गहरी(deep) भाग्य रेखा एक अच्छा संकेत है की आपको पैतृक(पिता) सम्पति का लाभ मिलेगा साथ ही घर के बुजुर्गों का सहयोग और आशीर्वाद भी।
  • कमज़ोर रेखा जीवन में असफलातों को दर्शाती है। परंतु हाथ में सूर्य (sun) रेखा मजबूत है तो आप hard work से सफलता प्राप्त कर सकते हैं।
  • अगर भाग्य रेखा दो हिस्सों में है तो यह बताती है की आप आपना लक्ष्य सही से तय नहीं कर पा रहे, आप दो नाव में सवार रहना चाहते हैं।
  • रेखाएँ अगर उलटी सीधी हों तो वो बताती है, की आपको आसानी से कुछ नहीं मिलेगा आपको मेहनत करते रहनी होगी। साथ ही आप हमेशा अधिक सोच विचार में पद जायेंगे निर्णय लेते समय की क्या करें क्या ना करें।
  • रेखाओं में अगर लहरें हों आपको उतार चड़ाव देखने को मिलेगा छोटे से छोटे काम के लिए अधिक मेहनत करनी होगी।
  • अगर किसी के हाथों में भाग्य रेखा के अंश नहीं है, तो निराश ना हों भाग्य आपका भी साथ हर दम देता है। आपका भाग्य आपके हाथों की दूसरी लकीरें तय करती है।
  • अगर आपके हाथ में 2 भाग्य रेखा दिखे और वो parallel है, तो यह आपके लिए शुभ है और आप एक या एक से अधिक क्षेत्रों में उन्नति पा सकते हैं।
  • जब कोई रेखा चन्द्र पर्वत से होते हुए भाग्य रेखा से आ मिले तो अपने वैवाहिक जीवन में अधिक रूचि दिखाते हैं।

भाग्य रेखा या कोई भी और रेखा आपके जीवन का फैसला नहीं लेती यह आपको बस एक मार्ग दिखाती है। आपका भाग्य सबसे अधिक आपके कर्म (Karma) पर निर्भर है और आपको ना ही इसके भरोसे बैठे रहना है। आपका जीवन एक रेखा से कहीं अधिक बड़ा है।

Related posts:

6 thoughts on “भाग्य रेखा के पहलू – Bhagya Rekha

  1. Nishant tiwari

    Apne bhagya ke vishay me karm ki pradhanta Par Jo bal diya hai ye ek best astro ki best khoobi hai.
    sabhi logo se ye vinamra anurodh hai ki app karmsheel bano.
    bhagya bahut kuchh hai unke liyeJo karm nahi karna chahte unke liye kuchh bhi nahi hai Jo karmsheel hai. hamara bhagya hamare karm par adharit hota hai

    Reply
  2. Anuradha

    me bhi es bat se shmt ho
    veshy to phele karm kijiy fal ki echha mat kro jb tum karm krige tbhi to fl milega

    Reply
  3. pooja Kumari

    nice yrr
    sahi kaha he aap logo me vese sastro me bhi yahi kaha ki hast rekhaye hmare. krmo ke aadhar pe hi bnti he

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *