Black Soil detail in Hindi – काली मिट्टी

By | January 5, 2018

क्या आप Black Soil से जुडी जानकारी Hindi में खोज रहे हैं? हमारे India में काली मिट्टी को कपास के लिए अच्छा माना जाता है, जानिए इसके advantages और disadvantages के बारे में |  Black soil यानी “काली मिट्टी” इसे कपास की मिट्टी या रेगुर मिट्टी कहा जाता है । ये मिट्टी मुख्य रूप से डेक्कन लावा मार्ग में पाए जाता हैं जिसमें तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश और गुजरात राज्य शामिल हैं । अधिकतर इस प्रकार की मिट्टी गोदावरी, कृष्णा, नर्मदा और तापी नदी के घाटी में पाई जाती है | लावा चट्टानों के weathering के कारण काले मिट्टी का निर्माण होता है |

Black soil details in Hindi



काली मिटटी में iron, lime, magnesium और aluminium की मात्रा पाई जाती है | हलाकि इस मिटटी में phosphorus, nitrogen and humus की मात्रा बहुत कम होती है | आमतौर पर, मिट्टी के गठन के दौरान इस मिट्टी को विभिन्न लवणों या humus से इसे काला रंग मिलता है | काली मिट्टी में बड़ी मात्रा में clay (कीचड़) होता है, लेकिन यह मिट्टी देश के पहाड़ी इलाकों में रेतीले भी होते हैं | काली मिट्टी में नमी अत्यधिक प्रतिरक्षाशील होती है | काली मिट्टी को उच्च उर्वरता का श्रेय दिया जाता है |

Classification of Black Soil / वर्गीकरण    

मिट्टी और गाद के बारे में मिट्टी के अनुपात के आधार पर दो व्यापक समूहों में बांटा गया है :

  • Trappean Black Clayey Soil : इस प्रकार की मिट्टी भारत के Peninsular भागों में पाई जाती है | यह मिट्टी बहुत भारी होती है क्योकि इसमें 65% से 80% तक नमी मौजूद होती है |
  • Trappean Black Loamy Soil : इस मिट्टी में गंदगी की सामग्री 30 से 40 प्रतिशत के बीच होती है | यह मिट्टी Wainganga घाटी और उत्तरी कोंकण तट में पाई जाती है |

जानिए types of soil से जुडी जानकारी यहाँ पर विस्तार में |

परतों की मोटाई के आधार पर काली मिट्टी को तीन उप-समूहों में विभाजित किया जा सकता है |

Shallow Black Soil : इसकी मोटाई 30 सेमी से कम होती है | यह मुख्य रूप से सतपुरा की पहाड़ियों में, भंडारा, नागपुर और सातारा, बीजापुर और गुलबर्गा जिले में पाई जाती है । यह मिट्टी ज्वार, चावल, गेहूं, चना और कपास की खेती के लिए अधिक उपयोगी होता है |

Medium Black Soil : इस मिट्टी की मोटाई 30 सेमी और 100 सेमी के बीच होती है | यह महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के एक बड़े क्षेत्र में पाई जाती है ।


Deep Black Soil : इस मिट्टी की मोटाई 1 मीटर से अधिक होती है | यह मिट्टी भारत के निचले क्षेत्रों में पाया जाता है | इस मिट्टी में clay की मात्रा 40 से 60 प्रतिशत के बीच होती है । इसकी प्रतिक्रिया alkaline है | यह मिट्टी कपास, गन्ना, चावल, खट्टे फल, सब्जियों आदि की फसलों की खेती के लिए उपयोगी माना जाता है ।

Features of Black Soil / विशेषताएं

  • कपास की खेती के लिए सबसे अच्छी मिट्टी |
  • अधिकांश डेक्कन काली मिट्टी द्वारा कब्जा कर लिया गया है |
  • यह एक परिपक्व मिट्टी है |
  • इस मिट्टी में पानी की मात्रा को उच्च बनाए रखने की क्षमता होती है |
  • सूखने पर गीले और सिकुड़ते समय चिपचिपा हो जाता है |
  • Self-ploughing काली मिट्टी का एक विशेषता है क्योंकि यह सूखे होने पर चौड़ी दरारें विकसित करती है ।
  • यह मिट्टी iron, lime, कैल्शियम, पोटेशियम, एल्यूमीनियम और मैग्नीशियम से भरपूर होता है ।
  • इसमें नाइट्रोजन, फास्फोरस और कार्बनिक पदार्थ की कमी होती है, इसलिए भी micronutrients को सही मात्रा में plants में देने की सलाह दे जाती है |

Advantage of Black Soil

  • काली मिट्टी में आवश्यक तत्वों की समृद्ध सामग्री भूमि को कृषि के लिए अनुकूल बनाती है ।
  • यह मिट्टी अत्यधिक नमी-रक्षक है, इसलिए इस मिट्टी में की जानी वाली फसलों को अधिक सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है |
  • यह मिट्टी में कैल्शियम कार्बोनेट, मैग्नीशियम, पोटाश और चूने से समृद्ध होते हैं, इसलिए इस मिट्टी की फसल उन्नत होती है |
  • मिट्टी की उर्वरता, क्षरण प्रतिरोध, और अनाज में नमी बनाए रखने के गुण इस मिट्टी को बेहतर फसलों की वृद्धि के लिए सबसे उपयोगी बनाती हैं |

Disadvantage of Black Soil

  • गीला और सूखे प्रक्रिया के दौरान मिट्टी में व्यापक सूक्ष्म घाव और संकोचन क्रमशः मिट्टी में किसी भी चेतावनी के बिना दरारें उत्पन होने लगती है, जो की फसलों की कमजोरी का कारण बनता है ।
  • वर्षा के दौरान इस मिट्टी में खराब जल निकासी और जल प्रवेश होती है जो फसलों के लिए नुकशान दायक शाबित हो सकता है |
  • काली मिट्टी की उर्वरता कम होती है और इसमें कार्बनिक पदार्थ, नाइट्रोजन, उपलब्ध फास्फोरस और जस्ता की कमी होती है, इस कारण फसलों की उर्वरक के लिए अधिक खादों की आवश्यकता होती है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *