Broccoli Farming Guide in Hindi (हरी फूलगोभी)

By | August 29, 2016

Kya aap Broccoli Farming ki jankari khoj rahe hain? Broccoli को Hindi में हरी फूलगोभी भी बोला जाता है – जानिए इसे उगने के method, plantation, और बिमारियों से बचाव के बारे में | Broccoli एक प्रकार का खाद्य प्रदार्थ है जो हरे पौधे के जैसे होता है | Broccoli खाद्य प्रदार्थ गोभी के category का है | इसके पौधो में गोभी के सामान्य फुल लगते है, इस फुल को हम सब्जी के रूप में इस्तेमाल करते है | सर्वप्रथम Broccoli का उपज प्राचीन रोमन काल के समय Italy में कई वर्षो पूर्व किया गया था | उस समय लोग इसे जंगली गोभी के रूप में इसका उपज किये और इस्तेमाल किये |

Broccoli Farming guide in Hindi

Broccoli मुख्यतः देखने में फूलगोभी के सामान्य बड़े सर वाला फुल के जैसे होता है, परन्तु इसके फुल भी हरे रंग के होते है | इसके फुल का structure पेड़ के समान्य होता है जिसमे एक मोटे तने से कई पतले पतले डालिया जुडी होती है और इसके सिरे पर फुल लगा होता है |

Broccoli Nutrition

अन्य खाद्य सामाग्री के मुताबिक Broccoli में भी कई प्रकार के पोष्टिक तत्व होते है, जो हमारे शरिर को स्वस्थ बनाए रखता है | Broccoli के इस्तेमाल से हमारे शरिर में होने वाले कई सारे बिमारियों को ठीक किया जा सकता है या अपने शरीर को कई ख़तरनाक बिमारियों से दूर रखा जा सकता है | Broccoli में मौजूद निम्न पोष्टिक तत्व हमे स्वस्थ रखने में मददगार साबित होते है |

  • Energy
  • Carbohydrates
  • Fat
  • Protein
  • Vitamins
  • Calcium
  • Iron
  • Magnesium
  • Manganese
  • Phosphorus
  • Potassium
  • Sodium
  • Zinc

हरी गोभी के फायदे / Benefits of Broccoli

Broccoli काफी प्रसिद्ध सब्जी है इसमें मौजूद व्यापक किस्म के पोषक तत्व और कई प्रकार के औषधीय गुणों की मौजूदगी होती है जो हमे कई प्रकार के बिमारियों से निजात दिलाता है जैसे Cancer, पाचन की गड़बड़ी, Cholesterol level को नियंत्रण करना, हमारे शरिर को allergic reactions से बचाव करता है, Improve immune system, Skin को स्वस्थ रखता है, जन्म दोषों को ठीक करता है, blood pressure को नियंत्रित रखता है, हमारे शरिर में सुजन को ठीक करता है और इसके साथ साथ यह हमारे आँखों को स्वस्थ बनाकर हमारे देखने की क्षमता को ठीक करता है |

ब्रोक्कोली की खेती कसे करे / How to Start Broccoli Farming

Broccoli plantation

Agar aap Broccoli Farming ko India mein suru karna chahte hai to aap isse accha khasas profit kama sakte hai, barsarte ki aap ise scientific method se kare. Broccoli ki kheti aapko kam time mein acchi profit de sakti hai. ब्रोक्कोली की खेती सर्वप्रथम Italy में कई सौ वर्षो पूर्व रोमन काल में किया गया था | परन्तु आज कई इलाको में इसकी खेती आरम्भ हो गई है | कई लोग अपने व्यापार के लिए भी broccoli की खेती करना पसंद करते है | आज भारत के कई राज्यों में इसकी खेती की जाती है, इसके कारण आज भारत विश्व स्तर पर Broccoli की बहुउत्पादन देश में से एक है | तो चलिए जानते है Broccoli Farming से जुडी जानकारी, method, plantation, profit margin etc के बारे में:

Types of Broccoli

भारत में broccoli मुख्यतः तीन प्रकार के पाए जाते है | Calabrese broccoli, Sprouting broccoli और Purple cauliflower |

  1. Calabrese Broccoli – Calabrese नामक Broccoli आसानी से उपलब्ध होने वाले पौधे है | इसके green head की लम्बाई तक़रीबन 10 से 20 cm तक होती है और इसके डंठल सामान्य से थोड़ी मोटी होती है |
  2. Sprouting Broccoli – Sprouting Broccoli में green head कई सारे head से मिल कर बने होते है और ये सारे head पतले-पतले डंठल से जुड़े होते है |

Purple cauliflower – Purple Cauliflower मुख्यतः Italy, Spain और UK में पाए जाने वाला broccoli है | कभी कभी आपको इसके head में मौजूद flower buds के पास की डाली purple color में मिलेगा |

कब उगाना चाहिए / Timing

India में broccoli को उगाने का उचित समय अक्टूबर के तीसरा सप्ताह (last week of October) उचित है | परन्तु कम height वाले स्थानों पर बुवाई के लिए Sep-Oct के मध्य, medium height वाले क्षेत्रो के लिए Aug-Sep तथा साथ ही उच्च या पहाड़ी इलाको के लिए March-April का महिना उचित है |

Climate and Soil Type

Broccoli की खेती ठंडे मोसम में किया जाता है | Broccoli का स्वस्थ उत्पादन के लिए वातावरण का तापमान 18-25oC उचित माना जाता है | पौधो का स्वस्थ विकास के लिए ठन्डे मौसम के साथ पूर्ण सूर्य की रौशनी, सिचाई हेतु प्रयाप्त पानी और उपजाऊ जमीन की आवश्यकता होती है | इसका Ph मान 6 से 7 तक होना चाहिए | ऐसे मिट्टी फसल को clubroot जैसे रुग से बचाता है | Broccoli की खेती कई प्रकार के मिट्टी में की जा सकती है परन्तु बलुई दोमट मिट्टी इसके फसल के लिए काफी लाभदायक है |

Preparation of Soil

Broccoli के खेती के पूर्व अपने खेत को 3-4 जुताई कर के अच्छे से मिट्टी को भुरभुरी कर ले | अंतिम जुताई से पूर्व खेत में गोबर के खाद को डाल कर मिलाले | अब खेत में कियारियो का निर्माण करे, कियारियो के निर्माण से फसल में सिचाई में सुविधा होती है | क्यारी बनाते वक्त ध्यान रहे की दो कियारियो की दुरी कम से कम 65 cm की होनी चाहिए एवं इसकी ऊचाई 100 cm तक होनी चाहिए |

Broccoli Nursery

अन्य फसल के प्रकार इसकी भी खेती से पूर्व nursery करने की आवश्यकता होती है |Nursery करने से पूर्व मिट्टी को तैयार किया जाता है, और क्यारी का निर्माण किया जाता है | अब क्यारी में 5 cm के अंतराल में पंक्ति का निर्माण करते है इसमे बिज की बुवाई के लिए 3 cm का गड्डा किया जाता है और बिज को बोया जाता है | बिज को बोने के उपरांत क्यारी पर घास फूस या पत्तो से ढक दिया जाता है, जिससे बिज पक्षीयों से सुरक्षित रहती है | जब पौधे निकलने लगते है तब उस के उप्पर से पत्तो आदि को हटा दिया जाता है और इसपर किट से बचाव के लिए नीम का काढ़ा या गाव मूत्र का छिडकाव करते है |

Broccoli Planting

Broccoli के बिज को अंकुरित होने के लिए 5oC तापमान की आवश्यकता होती है | broccoli के लगभग 300 ग्राम एक हेक्टेयर जमीं के लिए प्रयाप्त है, एक महीने में बिज से पौधे बन कर तैयार हो जाते है | जब पौधे तैयार हो जाए तो इन्हें निकाल कर अपने खेतो में बनी क्यारीयो में लगभग 45 cm के अंतराल पर इसे लगाए | पौधो को लगाने उपरांत फसल में हलकी सिचाई करे |

Manure and Fertilizer

रोपाई करने से पूर्व खेत को तैयार करते समय खेत में प्रति 10 m2 में 50 kg गोबर के खाद, 1 kg नीम की खली और 1 kg अरंडी का खली डाले |

Irrigation and Maintenance

Broccoli के रोपाई करने के पश्चात् हमे समय समय पर खेतो से खरपतवार निकलते रहना चाहिए | और हर 2 सप्ताह पर फसल में हलकी सिचाई करते रहे |

Insect and Disease Treatment / किट पतंग से बचाव

अन्य फसलो के जैसे इस फसल में भी किट और बीमारियों का प्रभाव पड़ता है | Broccoli में मुख्यतः तना का सडना, काला सडन, तेला, मृदु रोमिल रोग पाए जाते है | इन सभी रोगों और insect से बचने के लिए हमे 2 kg नीम पत्ता, 100 तम्बाकू के पत्ती और 1 kg धथुरे को 2 ltr पानी में डाल कर उबाले | जब पानी आधा बच्चे तब इसे उतार ले और ठंडा कर के छान ले | अब इसे 5 ltr देशी गाय के मट्ठे में मिलकर अब इस मिश्रण को 140 liter पानी में डाल कर एक मिश्रण तैयार कर ले और इसे फसल में छिडकाव करे |

Harvesting and Yield

Broccoli के पौधो में कलियों का गुच्छा तैयार होने में 9-10 सप्ताह लग जाते है | जब कलियों का गुच्छा पूरी तरह तैयार हो जाए तो कलियों के खिलने से पूर्व इसे काट कर store कर ले | अगर broccoli के गुच्छे अच्छे से कसे हुए है तो एक पौधे का फसल 1 kg तक होता है | इस प्रकार आप 1 हेक्टेयर से लगभग 15 तक का उपज कर सकते है |

Earning from Broccoli

औसतन एक Broccoli का 500 gram से ले कर 1 kg तक weight होता है | और किसी shopping-mall में यह आसानी से 60 रूपए से ले कर Rs 100 तक पर kg sell हो सकता है | और local market में आसानी से 50 से 70 रूपए तक sell होता है | तो किसान भाई इसे Broccoli को आसानी से INR 15 से 30 per piece बेच सकते है |

उस हिसाब से अगर 1 acre के plot है, और आप वैज्ञानिक तरीके से हरे फूलगोभी की खेती करते है तो आपको अच्छा मुनाफा कम सकते है :

  • 1 Acre Plot = 43,500 sq feet space
  • Plantation = 6,000 Piece
  • Plant Loss = 1,000 piece
  • Total Left plant = 5,000 piece
  • 5,000 Piece x Rs 20 = Rs 1,00,000
  • Minus Expenses = Rs 20,000 (Irrigation, Seed, Medicine etc)
  • Miscellaenous Expenses = Rs 5,000
  • Total Net Profit = Rs 75,000

इस हिसाब से अगर आपके पास 1 acre की खेती लायक जमीन है तो आप आसानी से 3 से 4 month में 75,000 per acre का net profit कम सकते हैं |

अगर आपके पास भी Broccoli की खेती से जुडी कोई भी जानकारी हो तो यहाँ जरुर share करे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *