क्या है धारा ३७०, इसका मतलब Indian Constitution में

By | September 8, 2016

आइये समझते है आखिर क्या है धारा 370, इसका मतलब और इससे जुडी जानकारी के बारे में जो की article में mention और जो Indian constitution में आती है |  असल में यह एक article है जिसमे पुरे भारत के दुसरे state के मुकाबले Jammu Kashmir को एक विशेष state का दर्जा दिया गया है | भारत के स्वंत्रता के बाद छोटे छोटे state को Indian union में शामिल किया जाने लगा था | Jammu Kashmir को Indian union में लेन से पहलें ही Pakistan ने Jammu Kashmir पर आक्रमण कर दिया था | तब Kashmir के राजा Hari Singh ने कश्मीर को भारत के union में सामिल करने के मांग की, ताकि पाकिस्तान के आक्रमण से बचा जा सके और वहां की जनता के जान और माल की सुरक्षा की जा सके |

What is Dhara 370 in Hindi

तब भारत के पास इतना समय नहीं था की Kashmir को Indian union में सामिल करने का process शुरू किया जा सके | और फिर condition को देखते हुए Gopalaswami Ayyangar ने federal Constitution में धारा 370 A को रखा और फिर बाद में इसे धारा 370 बना दिया गया, और फिर भारत के प्रधानमंत्री Jawaharlal Nehru के द्वारा धारा 370 को लागु किया गया और Jammu Kashmir को एक विशेष राज्य का दर्गा मिल गया | और तब से भारत में धारा 370 हमेशा से राजनीति में एक चर्चा का विषय बन गया है |

धारा 370 है क्या ? What is 370 Article

Agar aap saral bhasa mein article 370 ko samajhna chahte hai to niche diye gaye information se kafi sari jankari aapko mil sakti hai.

विशेष अधिकार / Special Rights

To chaliye aaj jante hai article 370 of Indian constitution mein kya kya chije hain:

  • धारा 370 के मुताबिक, Parliament को जम्मू-कश्मीर के protection, Foreign Affairs और Communications के मामले में कानून बनाने का power तो है, लेकिन किसी दुसरे मामले में क़ानून को लागू करवाने के लिये centeral government को State government से permission लेना पड़ता है ।
  • धारा 360 जो पुरे भारत में लागु किया जाता है पर यह धारा जम्मू-कश्मीर में लागु नहीं होता |
  • 1976 का जो शहरी Land law है वह law Jammu Kashmir में लागु नहीं किया जाता है |
  • Jammu Kashmir के निवासियों के पास यह अधिकार होता है की वे भारत के दुसरे state में कहीं भी ज़मीन ले सकते है |
  • विशेष दर्ज़े के कारण Jammu Kashmir में धारा 356 लागू नहीं होता ।
  • विशेष दर्ज़े के कारण President के पास state Constitution को बर्ख़ास्त करने का कोई power नहीं होता है |

अन्य विशेष अधिकार / Other Special Rights

  1. Jammu and Kashmir का national flag दूसरा होता है वे Indian फ्लैग को नहीं मानते है |
  2. J&K के लोगो को Dual Citizenship का अधिकार दिया गया है |
  3. Jammu and Kashmir में Indian flag या फिर किसी National Symbols का अपमान होने पर उसे अपराध नहीं माना जाता है |
  4. यदि कोई जम्मू-कश्मीर की महिला किसी दुसरे State के आदमी से शादी करती है तो उस महिला से उससे जम्मू-कश्मीर की Citizenship छीन ली जाती है, और यदि कोई महिला किसी Pakistan के किसी Citizen से शादी करती है तो उस व्यक्ति को Kashmir का Citizenship मिल जाता है |
  5. धारा 370 के कारण जम्मू-कश्मीर ने RTI, RTE, CAG लागु नहीं होता है |
  6. जम्मू-कश्मीर में एक चपरासी की monthly income मात्र 2500 रुपए होती है |
  7. भारत में term of assembly 5 साल का बोता है लेकिन यह 6 साल का होता है |
  8. जम्मू-कश्मीर में पंचायत का कोई power नहीं होता है |
  9. भारत के Supreme Court के द्वारा दिए गए decision को Jammu Kashmir में नहीं माना जाता है |
  10. यदि भारत की संसद को जम्मू-कश्मीर में कोई कानून बनना हो तो वह सिर्फ सिमित क्षेत्र में ही आपना कानून बना सकती है |
  11. जम्मू-कश्मीर में महिलाओं के लिए Sharia का कानून लागु किया जाता है |
  12. जम्मू-कश्मीर ने Minorities को सिर्फ 16% तक की ही छुट मिलती है |
  13. भारत के अन्य state के लोग कश्मीर में ज़मीन खरीद नहीं सकते है |

Agar aapke pass aur koi jankari hai jo ki Dhara 370 se judi ho to yaha jarur share kijiye taki jayda se jayda Indians ko iski jankari mil sake. Agar aapko lagta hai upar di gayi jankari mein kuch truti ya galti hai jise sudharna chahiye to jarur batalye, waise jayadtar jankari Wikipedia se li gayi hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *