Dry Cracked Lips Treatment in Hindi – फटे होंठ से राहत पाने के उपाए

By | June 25, 2015

किसी को भी dry cracked lips पसंद नहीं है परन्तु इसका treatment और इलाज (ilaj) काफी आसन है | अक्सर यह देखा जाता है की मौसम में परिवर्तन होने पर हमारे होंठ में दरार बनने लगता है | जिसके कारण होंठो में काफी दर्द होता है साथ ही उसमे से खून भी निकालने लगते है | इस प्राकर की समस्याए सबसे अधिक ठंड की मौसम में देखा जाता है | ठंडी मौसम में हमारे वायुमंडल में नमी कम मात्रा में रहती है | जिसके कारण हमारे होंठो की नमी भी बार बार कम होने लगती है, इसी वजह से हमारे होठो में दरारे पड़ने लगते है, और होंठ फट जाते है |

Cracken Lips

Aksar yah dekha jata hai ki mausam me pariwartan hone par hamare hontho me darare padne lagti hai | jiske karan hontho me kafi dard hota hai, sath hi usme se khoon bhi nikalne lagte hai. Is prakar ki samasyae sabse adhik thand ki mausam me dekha jata hai. Thandi mausam me hamare wayumandal me name kam matraa me rahti hai. Jiske karan hamare hontho ki name bhi bar bar kam hone lagti hai. Isi wajah se hamare hontho me darare padne lagte hai aur honth fat jate hai.

होंठ के फटने के कारण ( honth ke fatne ke karan )

  • होंठ में नमी की कम मात्रा |
  • मौजूद नमी के वाष्प बन कर उड़ जाने के कारण |
  • ठंड मौसम के कारण |
  • शरीर में पानी की कमी होने पर भी होठ फटते है |
  • vitamin की कमी होने से भी |
  • धुम्रपान (smoking) करने पर |

होंठ फटने के लक्षण (honth fatne ke lakshan)

  • होंठ का सुख जाने के कारण उसमे रुखापन आ जाना |
  • होठ की त्वचा का पपड़ी बन जाना |
  • होंठ का रंग लाल हो जाना |
  • हलके से स्पर्स होने पर भी होंठो मे तेज दर्द होना |
  • फटे हुए होंठ से खून निकलना |

फटे हुए होंठ का इलाज तथा उपाए (fate hue honth ka illaj tatha upaye) / Treatment for Dry Lips

होंठ का फटने का मुख्य कारण होंठ में नमी की कम हो ज़ाने से है | अक्सर ठंडी मौसम में हमारे आस पास के वायुमंडल में आर्द्रता moisture काफी कम रहता है | जिसके कारण हमारे होंठो पर की नमी वास्पोसर्जन (evaporation) की प्रक्रिया से वास्पिकृत होकर उड़ जाता है | वास्पोसर्जन (eveporation) के कारण हमारे होंठो की उपरी त्वचा सुख कर छोटे छोटे पपड़ी के रूप में सिकुड़ने लगते है | जिससे होंठो की त्वचा में खिचाव होने लगता है, और होंठ फाट जाते है | अगर इसका कोई उपचार न किया जाये तो यह लम्बे समय तक रह सकता है और यह काफी परेशां भी कर सकता है | क्योकि इसके कारण बात करने में काफी तकलीफ होती है, साथ ही होंठ काफी अजीब दीखता है | जिससे चेहरे की सुन्दरता प्रभावित होती है | अत: इसका इलाज करना जरुरी होता है |

Thande mausam me hontho ki adhik fatne ka karan wayumandal me ardrata (humidity) ki kafi kam matra me hona hai. Akash me badal nahi rahti hai jiske karan (rate of evaporation) kafi high rahta hai. Jisse hamare hontho ki name wasp ke rup me udd  jaati hai, aur honth sukh kar fatne lagte hai. Fate honth ka turant illaj karna chahiye jisse wo jaldi thik ho jaye aur pareshani kam ho.

धुम्रपान (smoking) से परहेज – अगर आपका होंठ फटे हुए है, या उसे फटने से रोकना चाहते है, तो अपनी smoking की अददत को को कम करे | क्योकि smoking के कारण होंठ की त्वचा सुख जाती है, और उसमे नमी की कमी होने के कारण फटने लगती है |

पानी अधिक पिये (drink adequate water) – thande महीने में खास तौर पर अपने शरीर में पानी की कमी न होने दे |

  • दिन में कम से कम 3 से 4 लीटर पानी पियें |

कॉस्मेटिक (cosmetic) का कम प्रयोग करे – लड़कियां ज्यदातर अपने होंठो में lipstick का प्रयोग करते है, उन्हें यह ध्यान रखना चाहिए जब होंठ फटे हुए हो तो cosmetic lipstick का इस्तेमाल न करे क्योकि lipstick फटे हुए होंठ पर जमे गंदगी को निकलने नहीं देता है | जिसके कारण फटे होंठ को ठीक होने में अधिक समय लगता है |

बादाम का तेल – बादाम का तेल को lips में लगाने से होंठ का फटना कम हो जाता है | फाटे हुए होंठ रहने पर इसका तेल को लगाने से ठीक हो जाता है |

  • रोजाना जब भी घर से बहार जाये, बादाम के तेल को अपने होंठो पर लगा कर ही बहार निकले |

गुलाब जल और तुलसी  (gulab jal aur tulsi ka patta)

  • एक बर्तन में 2 चम्मच गुलाब के जल को निकल ले |
  • अब उसमे 8 से 10 तुलसी के ताजे पत्ते को डाल कर 10 से 15 minute के लिए छोड़ दे |
  • अब उस गुलाब के जल को अपने होंठ में लगाये |
  • दिन में तीन से चार बार इस प्रक्रिया को दोहराए |

शहद (honey) – फाटे होंठ में शहद का लेप लगाने से भी लाभ मिलता है |

  • थोड़े से शहद ले और उसे अपने होंठो में लगा ले |
  • लगभग 15 से 20 minute तक लगा कर रखे |
  • समय होने के पश्चात शुसुम पानी से रुई की मदद से अपने होंठो को साफ कर ले |

नारियल का तेल (coconut oil) – नारियल का तेल काफी गढ़ा होता है | साथ ही यह त्वचा की नमी को बनाये रखता है | नारियल के तेल को होंठो में लगाने से यह होंठो को सूखने नहीं देता है | जिससे होंठ नहीं फटते है |

  • जब भी बहार निकले या ठण्ड अधिक हो अपने होंठो में नारियल के तेल से हलके massage कर ले |

एलो वेरा (aloe vera gel) – aloe vera का gel भी होंठो के त्वचा के नमी को बचा के रखने में सक्षम होता है |

  • aloe vera के gel से अपने होंठो की सुबह साम मालिस massage करे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *