ESR Full Form in Hindi – इ.एस.आर

By | December 29, 2016

Kya aap bhi ESR full form ko Hindi mein janana chahate hai? Asal mein yah ek tarah ka test hota hai jisse red blood cells ki jaanch ki jati hai. Kai baar doctors ESR test ke liye bolte hai, jiska main karan hota hai ki Doctor janana chahate hai ki aapke red blood cells ki kya situation hai.

What is ESR and meaning in Hindi

ESR = Erythrocyte Sedimentation Rate

Kai baar log ESR ka matlab janana chahate hai. Kai baar test may high ESR ka report aata hai.  ESR का full form होता है “एरिथ्रोसाइट सेडीमेंटेशन रेट” । असल में Erythrocyte sedimentation rate  को “सेडीमेंटेशन रेट” भी कहा जाता है। इसे कई लोग वेस्टरग्रेन ESR test भी कहते है । ESR test में red blood cell का test किया जाता है। इस test से red blood cell में मिले sediment यानि की मैल का पता चलता है । ये एक normal blood test कहलाता है जिससे body के किसी भी part में हुए swelling या फिर infection का पता लगाया जा सकता है। 

How to do ESR test / इ.एस.आर जांच कैसे होती है ?

ESR test भी दुसरे blood test के जैसा हीं किया जाता है। इस test के लिए सिरेन्ज से मरीज के बांह की नस से blood sample लिया जाता है और फिर उस sample को lab में test के लिए भेज दिया जाता है । इस test का कोई side effect नहीं होता है लेकिन कई बार बहुतो के बांह पर जहाँ से blood लिया गया है सुजन हो जाती है जो की खुद एक से दो दिनों में ठीक हो जाता है ।

इस test में ये मालूम किया जाता है की जो blood sample लिया गया है उसमे test tube के  नीचे कितनी देर के बाद red blood cells में से erythrocyte जम जाते हैं। 1 hour के बाद जितनी erythrocytes test tube के निचे जमती है समझ लीजिये की उतना हीं सेडीमेंटेशन रेट ज्यादा होता है। test के बाद report आने पर हीं इस बात का पता लगता है की मरीज का सेडीमेंटेशन रेट क्या है । इस test के normal report को “Reference Range” कहते है। Sedimentation rate बढ़ने का और भी बहुत सा कारण हो सकता है जैसे की Immune disease, Cancer, Chronic Kidney Disease, thyroid, Viral infections आदि । वहीँ sedimentation rate के कम होने का भी बहुत reason हो सकता है जैसे की high blood sugar , Polycythemia आदि ।  

इ.एस.आर जांच से  बहुत से चीजों का पता लगाया जाता है 

  • ESR test से body में फैले Infection and inflammation का पता चलता है ।
  • इस test से बीमारी कितनी तेजी से बढ़ रहा है इसका भी पता लगाया जा सकता है।
  • ESR test से ये भी पता लगाया जाता है की मरीज का जो treatment चल रहा है वो सही तरीके से काम कर रहा है या नहीं ।

Agar aapko iske alawe aur kisi chij ki information ho jo ki ESR se judi ho par yaha par di nahi gayi hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *