Honey Bee Sting Treatment – Madhumakkhi ke dank ka ilaj

By | July 8, 2015

मधुमक्खी जिसे Honey Bee भी बोला जाता है जो की उड़ने वाली प्रजाति की किट है, जो छत्ता बना कर रहती है | ये अपना छत्ता घरो के छत में या पेंड की टहनियों पर बनाते है | अक्सर कई बार ये अपने छत्ते मानव अधिवास के आस पास बना लेते है | जिसके कारण मानव और मधुमक्खी का आमना सामना हो जाता है | मधुमक्खी का डंक काफी जहरीला होता है, जिसके काटने पर काफी तेज जलन होता है और जहा पर डंक लगा हुआ होता है वो भाग सूज जाता है |

Honey Bee Sting treatment and ilaj in Hindi

मधुमक्खी के कटे जाने पर उसके दर्द को कम करने के लिए कुछ आवाश्यक उपायों को अपनाए 

Madhumakkhi (Honey Bee) duwara kate jane par kafi dard hota hai. Iske duwara kate jane par turant ilaj kiye jane se hone wali jalan aur , usse failne wali jahhar  (venom) ka asaar bhi kam ho jaata hai. Samay rahte agar iske dank (stings) ko nikal diya jaye aur kooch gharelu chijo ka dawa ke rup me prayog kiya jaye to iske, kate jane par hone wale prabhaw (effect) ko kam kiya ja sakta hai |

ध्यान रखने वाली बाते (dhyan rakhne wali baate)

मधुमक्खी की तरह दिखनेवाला ततैया भी उड़ने वाली किट है जो डंक मारती है | मधुमक्खी की तरह ही  ततैया अपना छत्ता घरो के छत में या पेंड की टहनियों पर बनाते है मधुमक्खी एक ही बार डंक का प्रयोग करते है | जबकि ततैया 2 से अधिक बार डंक मार सकते है | मधुमक्खी का काटने पर उसका डंक टूट कर डंक मारे हुए त्वचा में रह जाता है, ततैया का डंक नहीं टूटता | अत: जब भी इस प्रकार की घटना हो पहले यह तय कर ले डंक ततैया मारा है या मधुमक्खी |

मधुमक्खी के डंक मरने पर उसका इलाज के उपाए (madhumakkhi duwara kate jane par uske ilaj ke gharelu upaye)

डंक (stings) – मधुमक्खी के डंक को कटे हुए भाग से तुरंत बाहर निकाले | अपने हाथो से निकालने की कोशिस न करे इससे हांथो में जहर फ़ैल सकता है | किसी कार्ड से या किसी धातु का प्रयोग करे डंक निकालने के लिए |


ठंडा पानी (cold water) – मधुमक्खी के काटने पर कटे हुए भाग को तुरंत ठन्डे पानी में डुबों कर 5 minute तक रखे | ऐसा करने से जलन थोडा कम हो जायेगा |

बर्फ की सिल्ली (ice cube) – आप मधुमक्खी के डंक मारे जाने पर बर्फ की सिलली को कपड़ो में बांध कर डँसे हुए भाग में 10 minute तक हलके – हलके रगड़े | इससे तुरंत आराम मिलता है |

Tooth Paste – मधुमक्खी के डांक मारे जाने पर जिस जगह में डंक लगा हो उस भाग को पूर्ण रूप से tooth paste का लेप से ढक देना चाहिए | tooth paste जहर की असर को कम कर देता है | दिन में तीन से चार बार apply करे |

शुद्ध मधुरस (pure honey) – मधुरस में एंटी becterial गुण पाया जाता है, जो मधुमक्खी के काटे जाने पर उससे होने वाली डंक के असर को ख़त्म कर देता है |

  • मधु के रस को डंक लगे हुए जगह में अच्छे से लगा कर छोड़ दे |

Choona (lime) – चूना एक अत्यंत अल्कोलोइड है | यह acid के असर को तुरंत कम करता है | यह मधुमक्खी के कटे जाने पर उसके जहर को शरीर में फैलने से रोकता है | इसके साथ वह जहर के असर को भी तुरंत ख़त्म कर देता है |

गेंदा का फुल (calendula flower) – गेंदा फुल के रस में anti fungal तत्व पाया जाता है | जिसका इस्तेमाल से मधुमक्खी के डंसने से होने वाली जलन और सुजन को कम करने में मदद मिलती है |

  • इसके फुल के रस को जहा पर मधुमक्खी डंक मारा हो उस जगह में सीधे मचोड़ कर लगाये |

तुलसी का पत्ता ( basil leaves) – तुलसी के पत्ते के रस को मधुमक्खी के काटे गए जगह में सीधे लगाने से लाभ मिलता है |

  • पपीता – पपीता में पाए जाने वाले enzyme मधुमक्खी के जहर कासार को कम करने के कम आता है |
  • पपिता को काट कर उसके भीतरी भाग से मधुमक्खी दुवारा कटे गए जगह पर massage करे और उसे 20 minute तक रहने दे |

खाने वाला सोडा (baking soda) –

  • एक कप में थोडा सा खाने वाला सोडा ले |
  • उसमे थोडा सा जल मिला कर paste तैयार कर ले |
  • अब उस paste को जहा पर मधुमक्खी काटा है, उस जगह में लगा ले |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *