How to Grow Grass (Fodder) for Dairy Cows – घास कैसे उगाये

By | July 9, 2016

Wanted to know how to grow fodder for Cows for your Dairy in India?  जानिए की कैसे गायों के लिए हरे घास उगाया जाता है? जानिए इससे जुडी जानकारी, types of grass breeds etc. Dairy गाय से दूध उत्पादन के लिए गाय को balanced diet देना अति आवश्यक है | और इस कारण हम गाय को कई प्रकार के चारा का इस्तेमाल या प्रयोग करते है | क्या आपको ये पता है की घास गाय के लिए अति आवश्यक है | क्योकि गाय के लिए उपयुक्त पोष्टिक आहार घास में उपलब्ध होती है | और ये हमे आसानी से मिल जाता है | घास एक प्रकार का पौधा है, जिसे हम आसानी से किसी भी भूमि पर उगा सकते है |

Grow Grass for Cows

How to Grow Grass for Cows in India?

Agar aap gay palan se jude hue hai aur ise next level par le jana chahte hai to aapko yah sochna hoga ki kaise dairy mein cost cutting kar ke jyada se jayda profit kamaya jaa sakte. Jaisa ki hum sabhi jante hai ki dairy farm me 40 to 60% expenses keywal gaye ke khane par he karch hota hai .  To agar Dairy farm ke liye fodder (ghas) ko he khali pade jamin (land) par grow kiya jaa sake to yah aapki costing ko aasani se 25 se 30% kam kar dega. Iske liye aapko khali padi plot chahiye taki us par aap unnat kism ke hybrid grass ko grow kar sake.  To chaliye jante hai gaye ke liye ghass kaise ugaya jaye, wistar mein:

घास के विशेषता / Features of Fodder

वैसे तो घास लगभग किसी भी खुली जगह पाया जा सकता है जहा पानी की उपलब्धता हो | आकर में ज्यादा उचा (height) नहीं होता है, परन्तु इसकी density काफी अच्छी होती है |  कुछ घास की आयु बहुत कम होती है तो कुछ की आयु ज्यादा लम्बी होती है | कुछ घास ऐसे भी होते है जो पानी जैसे नदी तालाब के आस पास पाए जाते हैं तो कुछ सूखे और शुष्क इलाकों में पाए जाते हैं | आज 21st century में scientist ने कई तरह के hybrid grass तैयार किया है जो की कम समय में काफी अच्छी पैदावार देती है और डेरी व्यापार के लिए काफी फायदेमंद है |

घास के प्रकार /  Types of Grass

Types of Fodder found in India

सन 1995 के बाद समाज में चारा की घटती मात्र को देखते हुए लोगो ने घास उद्पादन के लिए उत्प्रेरित करने लगे और घास का उत्पादन करने लगे | भारत में विभ्भिन प्रकार के घास पाए जाते है | तो चलिए जानते है grass breeds aur fodder से जुडी jankari:

  • Congo Signal
  • Gunnie grass
  • Hybrid Napier (CO1, CO2 and CO3)

इसके अलावे कुछ और hybrid grass है जो dairy market में काफी demand है जैसे:

  • Bermuda Grass
  • Reed Canary Grass

घास का उत्पादन /  Grass Production

अक्सर देखा गया है की गाय पालन में सबसे ज्यादा खर्चा इसके खान पान में ही होता है | घास को अगर गाय के अन्य चारे के साथ में दिया जाए तो इससे दूध उत्पादन की मात्रा बढती है | और साथ ही दूध का गुणवत्ता भी बनी रहती है | घास हमे सभी मौसम में आसानी से नहीं मिल पाता है, बरसात के मौसम में घास हमारे चारो ओर मैदानों में आसानी से उपलब्ध हो जाता है, परन्तु गर्मियों के दिनों में इसका मिलना थोडा मुस्किल हो जाता है | तो आइये आज आपको बतलाते है घास उगाने के तरीके | Congo Signal घास की खेती करना बड़ा आसान काम है |

  • घास को लगाने से पहले हमे ये ध्यान देना चाहिए की हम कितना जमीन पर घास की खेती करने जा रहे है | एक एक्कड़ जमीं पर 50 kg बिज लगाना चाहिए |
  • घास के अच्छे फसल के लिए हमे जमीन को अच्छे से जोत कर इसमें बिज का छिडकाव करना चाहिए, जब पौधा 4-6 inch बड़ा हो जाए तो इसमें 15-20 kg/एक्कड़ के मात्रा में nitrogen का छिडकाव करना चाहिए |
  • ऐसे तो घास में पानी की ज्यादा आवश्यकता नहीं होती है, परन्तु गर्मी के दिनों में इसमें रोजाना पानी देना आवश्यक होता है |

घास के फायदे / Benefits of Grass

घास के कई गुण है, इसके रोजाना गाय के diet में इस्तेमाल करने से गाय दूध ज्यादा देती है, और दूध का गुणवत्ता भी अच्छा होती है | घास की केवल एक फसल में 7-8 बार कटाई होती है, परन्तु अगर इसे पानी की अच्छी मात्रा मिले तो इसकी कटाई बढ़ भी सकती है | जिसे आप बाजार में बेच भी सकते है |

इसके अलावे ताज़ा घास खिलाने से गाय की दूध देने की मात्र में 10 से 25 % तक का growth देखा गया है | और तो और ताज़ा हरा घास खिलने से गायों की पाचन तंत्र  भी अच्छी होती है |

गायों द्वारा खाए गए घास से अच्छी quality का गोबर होता है जिससे बायोगैस अच्छी मात्र में उत्पन्न होती है |

खुटी देने से अच्छा है की आप घास की मात्रा को जायदा दे और खुटी (सुखा चारा) कम दें |

आज बाजार में इसका मूल्य Rs 2-3 पर kg है | आज भारत के कई स्थानों में किसान घास की खेती कर सालाना कम से कम Rs 20,000 से 25,000 आसानी से कम सकते है और वो भी काफी कम मेहनत से |

Agar aapko iske alwe aur koi jankari ho jisse grass ka production increase kiya jaa sake to mujhe jarur se batlaiye |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *