केसर के खेती करने का वैज्ञानिक तरीका – Kesar Farming

By | August 3, 2016

आज के दौर में केसर की खेती कर के आप एक अच्छा profitable business खड़ा कर सकते है | जानिए इसका farming India में कैसे करे वैज्ञानिक तरीके से, इससे जुडी जानकारी विस्तार में | केसर एक प्रकार का सुगन्धित पौधा है, जिसका वनस्पति नाम Crocus sativus और इसे अंग्रेजी में saffron कहा जाता है | मुख्यतः केसर दक्षिणी यूरोप में पाई जाने वाली वनस्पति है, परन्तु आज इसका उत्पादन कई अन्य देशो में भी किया जाता है | विश्व स्तर पर केसर का सर्वाधिक उत्पादन स्पेन में होता है | भारत में केसर की खेती सिमित क्षेत्र में होता है  जैसे Gujarat, Rajasthan, Madhya Pradesh| अगर आप सही तरीके से केसर की उन्नत खेती करते है तो आप कम समय में अच्छी मुनाफा कम सकते है |

Kesar flower farming in India

केसर का इस्तेमाल 

आज भारत में केसर का इस्तेमाल अनेक प्रकार से किया जाता है | मुखतः केसर का इस्तेमाल घरेलु पकवान या व्यंजनों में मसाला के रूप में किया जाता है | केसर के इस्तेमाल से व्यंजन का स्वाद बढ़ जाता है और साथ ही केसर के उपस्थिति के कारण व्यंजनों से एक अच्छा सुगंध आता है जो हमारे अन्दर के भूख को बढ़ा देता है | केसर का व्यंजन में इस्तेमाल के साथ साथ इसे दवा के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है |

केसर के फायदे / Health benefits of Kesar

मनुष्य शरिर को स्वस्थ रखने में केसर अहम् भूमिका निभाता है | केसर में कई गुण होने के कारण यह हमे कई बीमारियों से निजात दिलाता है |

  • केसर को चन्दन के साथ मिलाकर लेप तैयार कर ले और इसे सर मे लगाए इससे सर का दर्द ख़त्म होता है और साथ ही यह हमारे दिमाग और आँख को ठंडा रखता है |
  • दूध में केसर मिलाकर पिने से सर्दी और खासी से जल्द राहत मिलती है |
  • केसर का सेवन करने से गैस एसिडिटी जैसे समस्या से दूर रखता है और साथ ही हमारे पाचन क्रिया को मजबूत करता है |
  • केसर के नियमित सेवन से महिलाओ में होने वाले स्त्री संबंधित बीमारियाँ दूर रहती है |
  • केसर का सेवन हमारे शरिर को अन्दर से मजबूत करता है |
  • जले कटे पर केसर का लेप लगाने से जल्द राहत मिलता है |
  • केसर हमारे किडनी और लिभर को स्वस्थ रखने में अहम् भूमिका निभाता है |

केसर की उन्नत खेती कैसे करे / How to do Kesar Farming

Agar aap sach mein Kesar ki farming ko India mein start karna chahate hai aur apke pass 1 ya 2 acre ka plot hai to aap kafi kam samay mein accha khasa profit kama sakte hain. Sabse acchi baat yah hai ki Kesar ki kheti karne mein aapko jayda punki ki jarurat nahi hogi aur kam time ke andar he aapka product ready ho jayega. Agar aap proper planning, dedication aur hard work ke saath Saffron ki farming ko start karte hai to profit kamana assan ho jata hai.

केसर विश्व में पाए जाने वाला सबसे महंगा पौधा है | केसर महंगा होने के कारण इसे लाल सोना भी कहा जाता है | केसर की खेती करना बहुत सरल और आसन है, इसमे अधिक मेहनत की आवश्यकता नहीं और साथ ही इसका फसल अवधि लगभग 3-4 महिना होता है | मुख्यतः केसर का मूल्य केसर के गुणवत्ता पर निर्भर करता है, आज भारत में केसर का मूल्य Rs 1,50,000 से Rs 3,00,000 हो गया है |

To chaliye jante hai Kesar ki kheti se judi jankari wistar mein:

केसर के लिए उपयुक्त जलवायु

केसर की खेती मुखतः समुन्द्र तल से 1500 से 2500 मीटर की उच्चाई के साथ ही इसे ठंडा, सूखा और धुप वाले क्षेत्रो में ज्यादा पाया जाता है | ठंडा और गिला मौसम पौधो के विकास को रोकता है और साथ ही फुल की लगने की क्रिया को सुस्त कर देती है |

भूमि / Land

केसर के उत्पादन के लिए आपको यह ख्याल रखना होगा की जिस खेत में आप इसकी खेती करने जा रहे हो वह रेतीली चिकनी बलुई मिट्टी या फिर दोमट मिट्टी हो | परन्तु केसर का खेती अन्य मिट्टी जिससे पानी का निकाशी आसानी से किया जा सके में किया जा सकता है | पानी का जमाव के कारण केसर के corms सड जाते है और फसल बर्बाद हो जाता है | इसलिए कोशिश करे की ऐसा भूमि का चयन करे जहाँ मिट्टी में पानी का जमाव नहीं होता हो |

भूमि की तैयारी

जैसा की हम सभी जानते है की किसी भी खेती में सबसे अहम् बात होती है खेती से पूर्व खेत को तैयार करना | आपका खेत  जितना अच्छा तैयार होगा, फसल उतना ही अच्छा और अधिक होगा | केसर का बिज बोने से पूर्व, खेत में अच्छे से 3-4  बार जुताई कर मिट्टी को भुरभुरा बना ले | अब आखरी जुताई से पूर्व खेत में 20 टन गोबर का खाद और साथ में 90 kg नाइट्रोजन 60 kg फास्फोरस और पोटास प्रति हेक्टेयर के दर से अपने खेत में डाल कर अच्छे से जुताई करे |

रोपण का समय, विधि एवं दर

सभी फसल के बीज को रोपने का एक समय होता है, निर्धारित समय पर बिज रोपण नहीं होने के कारण हमे इच्छानुसार उपज नहीं मिल पाता है | इसलिए बिज को हमेसा इसके निर्धारित समय पर खेतो में लगाए | केसर लगाने का सही समय जुलाई से अगस्त है परन्तु मध्य जुलाई सर्वश्रेष्ट है | केसर के corms लगाते वक्त ध्यान रहे की corms लगाने के लिए 6-7 cm का गड्ढा करे, और दो corms के बिच की दुरी लगभग 10 cm रखे | केसर की खेती के लिए 10-15 क्विंटल केसर corms प्रति हेक्टेयर की दर से आवश्यकता पड़ती है |

सिचाई 

केसर के खेती के लिए 10 cm वर्षा की आवश्यकता होती है | अगर बिज लगाने के कुछ दिन बाद हलकी वर्षा हो तो खेत में सिचाई करने की आवश्यकता नहीं है | परन्तु वर्षा नहीं होने पर हमे 15 दिन के अंतराल में 2-3 सिचाई करने की आवश्यकता होती है | सिचाई के दरमियान ध्यान रहे की खेत में कही पानी का जमाव न हो ऐसा होने पर पानी निकासी का जल्द प्रबंध करे |

देख रेख

खेत में अक्सर जंगली घास पनपते हुए नजर आते है, इसलिए हमे समय समय पर खेत में निरिक्षण करते रहना चाहिए एवं जंगली घासों को निकालते रहना चाहिए | यह हमारे फसल के विकास में बाधक है | केसर के अच्छे विकास के लिए रोजाना 8 घंटे धुप की आवश्यकता होती है | जब केसर अपने विकास के मार्ग पर हो अर्थात corms से पौध निकल कर बड़ा हो रहा हो उस वक्त पौधे में हमे हर दुसरे दिन पानी डालने की आवश्यकता होती है |

फुल का समय

केसर की खेती में हमें अक्सर यह देखने को मिलता है की केसर के पौधो में अक्टूबर के पहले सप्ताह पौधो में फुल लगना आरम्भ हो जाता है और अगले एक महीने तक फुल लगने की प्रक्रिया जरी रहती है | इस समय केसर के पौधे पर उचित ध्यान दे और यह खास कर ध्यान दे की किसी तरह का कोई कीड़ा या किट पतंग नहीं लग रहा हो |

कटाई और सुखाई

फुले के खिलने के दुसरे दिन ही फुल को तोड़ कर रख लिया जाता है | फुल को सूखने में ज्यादा समय नहीं लगते है यह 3-4 घंटे में सुख जाते है, फुल के सूखने के बाद फूलो से केसर को निकल लिया जाता है और इसे किसी कंटेनर में रख दिया जाता है | और जब पूरी फसल कट जाती है उसके बाद इसे धुप में अच्छे से सुखा कर बाजार में बेचा जाता है |

एक बार आपके पास केसर की पैदावर हो जाये तो इसे अच्छे तरीके से डिब्बाबंद pack कर के आप किसी भी नजदीकी मंदी में अच्छे दामों में बेच सकते हैं |

26 thoughts on “केसर के खेती करने का वैज्ञानिक तरीका – Kesar Farming

  1. dharmender

    Dear sir I m living in a village in haryana and I wanted growing kesar .

    Reply
    1. Manish monpara

      Muje Gujarat me kesar ki kheti karni h to muje uska beej kahase milega or uska market kahapar h??

      Reply
    2. anup kumar

      Keshar ka biz ya paudha kha se mil sakta hai aur iski puri jamkari de plz

      Reply
  2. Mohan Sharma

    Sir m haryana m karnal District ka Hu m keshar ki kheti krna chahata Hu mujhe btayege kese iski kheti hoti h please sir.

    Reply
  3. परमेश्वर प्रसाद

    झारखंड के रांची मेंकेसर की खेती के संभावना के बारे में जानकारी चाहते हैं।

    Reply
  4. suresh b patel

    namaste sir,
    par hame eske corms kahase milega.
    please guide me.

    Reply
  5. vishnu sharma

    Sir namaskar me kesar k8 kheti krna chata hu plz sir jankari chaiye aapke sath kam krna chata hu or aapki tarah safal hona chata hu

    Reply
  6. Prashant

    Is pune city is good place for the agriculture of suffron. Can we are able to grow the suffron in pollyhouse?

    Reply
  7. Patel hardik

    Muje gujrat me keshar karne wale log ka mobile no chhye aapke pass ho to muje do plz…. Or Gujarat me keshar ki kheti karne wale muje connect Kate…9998916222,9723247981

    Reply
  8. santosh kumar cholkar

    सर नमस्ते
    केसर की खेती मेरे छत्तीसगढ़ में हो सकता है क्या ? सर मै सच में केसर कि खेती करना चाहता हु मेरा मार्गदर्शन करे

    Reply
  9. Kedar Chaudhari

    Dear sir ,
    Please lets know where can we get seeds for keshar farming

    Reply
  10. Balsing

    मुझे केसर की खेती करनी है पौधे / बीज कहा से मिलेगा. मुझे पता दो. Mobail no. दो.

    Reply
  11. Praveen kumar

    मुझे केसर का बीज या केंद्र की जानकारी चाहिए

    Reply
    1. Pravin Faldu

      Muje kesar ka bij kahase milega are Gujarat me kesar ki kheti sambhav he please muje answer jarur bheje

      Reply
  12. Avinash Gaikwad

    maharashtra , pune district ,tal haveli me keshar ki kheti ho sakti hai kya aur 10 guntha polyhouse kitna seeds lagega aur kitina production milega

    Reply
  13. sushant

    Mujhe kesar ki kheti karni hai, agar mujhe jankari mile to aabhari rahunga

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *