Likoria ke Symptoms aur Treatment (श्वेत प्रदर)

By | February 5, 2016

Likoria ek tarah ki disease hai jiska Symptoms aur Treatment niche diya gaya hai, janiye iske ayurvedic aur gharelu upchar ke bare mein. Likoria(Leucorrhoea)  यानि की white discharge जिसे श्वेत प्रदर भी बोला जाता है, और यह  महिलाओं में होने वाला एक रोग है । इस रोग में योनि से बहुत ज्यादा सफेद बदबूदार पानी आता है । महिलाओं में ये रोग आम होता है। Likoria कोई disease नहीं है लेकिन ये किसी भी बीमारी का कारण बन सकता है। likoria के कई कारण हो सकते है जैसे की ज्यादा देर भूखे पेट रहना , बार बार aabortion कराना, प्रोटिस्ट(Protist) आदि । likoria के मरीज को बहुत से चीजों को avoid करना होता है जैसे की ज्यादा spicy और fried खाना ,tea, coffee, खट्टा से आदि ।

Likoria ke lakshan aur ilaj

Likoria Meaning in Hindi = श्वेत प्रदर

  • सफेद पानी आना

लिकोरिया के लक्षण / Symptoms of Likoria

Aksar Likoria ke bimari ke lakshan ko pakadna aasaan hota hai. Jyadatar mamlo mein kamar ke niche pain rahta hai aur kai bar private parts mein itching hoti hai. To chaliye jante hai Likoria ke lakshan ko:

  • Vagina में खुजली(itching) होना,
  • कमर में pain होना,
  • चक्कर आना,
  • Weakness लगना
  • आँखों के निचे dark circle होना आदि ।

लिकोरिया का इलाज / Likoria treatment 

Agar aap likoria ke patience hai aur iska ilaj khoj rahe hai to niche diye gaye gharelu upay apnakar isse chutkara paa sakte hain. To chaliye jante hai likoria ke home treatment aur iske ilaj ke bare mein wistar se:

भिंडी / Ladyfinger  भिंडी जिसे Okra भी बोलते है, में कई महत्वपूर्ण खनीज (minerals) होते है इसलिए ये likoria के लिए beneficial  होता है । 100 gram भिंडी को 1 liter water में लगभग 15 minute तक boil कर लें । जब ये ठंडा हो जाये तो इसे छान कर इसमें शहद mix कर के इसे पी लें । कुछ दिनों तक इसे regular पीने से आप श्वेत प्रदर से छुटकारा पा सकते है ।

अमरुद का पत्ता / Guava leaves – सबसे पहले Guava leaves को water में लगभग 30 मिनट के लिए boil कर लें ।  ठंडा होने पर इस पानी को योनि क्षेत्र को धोने के रूप में दिन में दो बार उपयोग करें। जब तक likoria का symptoms दिखना बंद न हो जाये तब तक इसका use करें ।

प्याज / onion – एक चम्मच प्याज के रस में बराबर मात्रा में honey को mix कर के कुछ दिनों तक regular सुबह और शाम लेने से likoria की problem ठीक हो जाती है ।

अजावइन / cumin seeds – थोड़ी सी Cumin seeds लें और उस को को पीस लें और फिर इसमें शहद को mix कर के  योनि क्षेत्र पर लागू करे । अजावइन से बना ये मिश्रण likoria के उपचार में बहुत प्रभावी होता है।

केला / Banana  पका हुआ केला likoria के इलाज में बहुत फायदेमंद होता है । एक केला लें और फिर इसे ghee या मक्खन के साथ खाएं । बेहतर results के लिए कम से कम इसे दिन में दो बार लेना चाहिए । 

आंवला / amla – 1 tsp पीसा हुआ आंवला को 2 tsp honey के साथ daily दिन में 1 times  लेने से एक महीने के अन्दर श्वेत प्रदर की problem ठीक हो जाती है ।

तुलसी / Basil – जैसा की हम सभी जानते है की तुलसी में औसधी गुण पाए जाते हैं और यह लिकोरिया में बहुत बड़ी राहत दे सकता हैएक बड़ा spoon तुलसी का रस में बराबर मात्रा में honey mix कर के regular कुछ दिनों तक लेने से भी likoria की problem ठीक होती है ।

हल्दी और लहसुन / Turmeric & garlic – हल्दी powder को लहसुन के साथ mix कर के खाने से भी likoria में फायदा होता है ।  ये white discharge और खुजली दोनों के लिए हीं बहुत प्रभावी है।

आम का बीज / Mango seeds  सूखी आम के बीज को पीस कर उसका powder ready कर लें ।  अब इस powder में थोड़ा सा पानी mix कर के इसका paste ready कर लें। अब इस paste को  योनि पर बहार से लागू करे। ये भी श्वेत प्रदर के इलाज के लिए एक अच्छा उपाय है ।

फिटकिरी / Alum – 1 gram कच्ची फिटकिरी (alum) को पके हुए केले को काट कर उसके बिच में भर दें। और फिर इस केले को दिन में एक बार खाएं। 1 week तक ऐसा करने से likoria से छुटकारा पाया जा सकता है ।

4 thoughts on “Likoria ke Symptoms aur Treatment (श्वेत प्रदर)

  1. divya

    क्या प्रग्नेंट लेडीज भी ले सकती है ये ट्रीटमेंट।।
    सहद गर्म होता है इसलिए पूछा

    Reply
  2. sushma devi

    Ihave likoria problem from 22 years plzz suggest me what type of medicine i can get

    Reply
  3. Seenu

    लुकोरिया मे फिटकरी विस्तार मे बताइए

    Reply
  4. manish

    Gharlu
    Nukse se likoria ka upchar 100% Sambhw hai. Koi side effet to nahi

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *