List of Garam Masala – Full Ingredients in Hindi

By | June 13, 2017

क्या आप जानते है हमारे देश में पाये जाने वाले Garam masala के नाम और उसकी पूरी ingredients list in Hindi. पढिये all powder की सूचि और जानकारी detail में | मसाला शब्द को सुनते ही हमारा ध्यान सबसे पहले रशोई की ओर जाता है | भारतीय व्यंजनों को लजीज बनाने के लिए कई प्रकार के मसालों का इस्तेमाल किया जाता है |  यह हमारे व्यंजन को और अधिक लजीज एवं सुगन्धित बनाता है | क्या आपको पता है की गरम मसाला में किन मसालों का मिश्रण होता है ? अगर नहीं तो आज हम आपको बताते है गर्म मसाला में मौजूद मसालो के बारे में |

List of Masala ingredients in Hindi

भारत मसालेदार लजीज व्यंजनों के लिए जाना जाता है | यहाँ विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाए जाते है, इन व्यंजनों को स्वादिष्ट और सुगन्धित बनाने के लिए गरम मसाला और कई मसालों का इस्तेमाल किया जाता है | इस में कई मसालों का मिश्रण होता है जो व्यंजन के जायके को बढाता है, इसमें मौजूद सामग्री निम्नलिखित है |

List of Masala

  • Black and white peppercorns – काली मिर्च
  • Cloves – लौंग
  • Cinnamon or cassia bark – दाल चीनी
  • Mace – जावित्री
  • Nutmeg – जायफल
  • Black cardamom – बड़ी इलायची
  • Green cardamom – छोटी इलायची
  • Bay leaf – तेजपत्ता
  • Cumin – जीरा
  • Coriander – धनिया
  • Saffron – केसर

Details of Masala

आइए जानते है इन सभी मसालों के बारे में जो गर्म मसाला के रूप में हमारे भोजन को स्वादिष्ट बनाते है |

Black peppercorns – इसे हिंदी में काली मिर्च भी कहा जाता है | वनस्पति जगत में कई ऐसे पौधे एवं फल है जिसका इस्तेमाल हम अपने लाइफ में करते तो है पर उसे जानते नहीं ऐसे ही पौधो में से एक पौधा मरिचापिप्पली नाम का बारहमासी पौधा है जिसके अधपके एवं सूखे हुए फल को कलि मिर्च कहा जाता है |

Cloves – इसे हिंदी में लौंग कहा जाता है जो वनस्पति जगत में मौजूद सदाबहार वृक्ष Eugenia caryophyllata के सुखी हुई पुष्प के कलि से बनी होती है | प्रारंभिक दौर में इसका इस्तेमाल चीन में किया जाता है | आरंभिक दौर में लौंग मलैका के देशो में अधिक पाया जाता था | परन्तु अब इसे उष्णकटिबंधीय प्रदेश में अधिक पाया जाता है | इसका इस्तेमाल भोजन को सुगन्धित बनाने के लिए किया जाता है |

Cinnamon – गरम मसाला के रूप में Cinnamon अर्थात दालचीनी का इस्तेमाल बर्षो पूर्व से किया जा रहा है | दालचीनी लोरेसिइ परिवार का सिन्नेमोमम ज़ाइलैनिकम ब्राइन नामक सदाबहार वृक्ष का छाल है | इसका उत्पादन श्रीलंका एवं भारत के दक्षिणी हिस्सों में बहुत अधिक मात्र में पाया जाता है | इसके छाल में एक अलग ही खुशबु उत्पन्न होती है जिस कारण व्यंजनों में सुंगंध के लिए दालचीनी का इस्तेमाल किया जाता है |

Mace – यह भारतीय रसोई में पाए जाने वाले मसालों के समूह का एक मसाला है | यह हमें इंडोनेशिया स्थित सदाबहार वृक्ष मिरिस्टिका वृक्ष से पाया जाता है | इस पेड़ में लगने वाले फल नाशपाती के समान होते है जिसके अन्दर लाल गुठली होती है जो जायफल होता है और इस जायफल के ऊपर एक पतली परत होती है जो जावित्री (Mace) कहलाती है |

Nutmeg – यह चीन, ताइवान, मलेशिया, ग्रेनाडा, केरल, श्रीलंका, और दक्षिणी अमेरिका में पाए जाने वाले मिरिस्टिका नामक वृक्ष के बीज को कहा जाता है | इसे हिंदी में जायफल कहा जाता है जिसे मसाले के तौर पर बखूबी उपयोग किया जाता है |

Black cardamom – इसे हिंदी में बड़ी इलायची कहा जाता है, इसके सुखाए हुए बीज को व्यंजनों में मसाला के रूप में इस्तेमाल किया जाता है | बड़ी इलायची को और भी कई नामो से जाना जाता है, काली, भूरी, लाल, बंगाल एवं नेपाली इलायची  के नाम से जाना जाता है | यह भारत और नेपाल के पहाड़ी इलाको में अधिक पाए जाते है | इसके अलावा इसे आयुर्वेदिक उपचार में किया जाता है |

Green cardamom – इसे छोटी इलायची कहा जाता है जिसका इस्तेमाल भी बड़ी इलायची के जैसे किया जाता है | बड़ी इलायची का आकार छोटी इलायची के तुलना में बड़ी होती है एवं बड़ी इलायची काली और छोटी इलायची हरे रंग की होती है |

Bay leaf – इसको हिंदी में तेजपत्ता भी कहा जाता है | तेज पत्ता का इस्तेमाल कई व्यंजनों में विशेष स्वाद और सुगंध के लिए इस्तेमाल किया जाता है | इसके ताजा पत्ता का स्वाद और सुगंध थोडा तीखा होता है, पत्ते को जब सुखाते है तो इसकी कडुवाहट मिट जाती है और इससे जड़ी बूटी का सुगंध आता है |

Cumin – भारतीय मसालों में सुप्रशिद्ध मसाला Cumin भी शामिल है | इसे जिसे हिंदी में जीरा कहा जाता है यह पूर्वी भूमध्य सागर से भारत के क्षेत्रो में बहुत अधिक पाया जाता है | जीरा एक प्रकार का जैविक पौधा है जिसके बीज को मसाला में खड़ा या powder के रूप में इस्तेमाल किया जाता है | जीरा और सोफ़ दोनों दिखने में एक समान होता है परन्तु इनके सुगंध दोनों को अलग करता है | जीरा को संस्कृत में जीरक कहा जाता है जिसका अर्थ अन्य के पाचन में सहायक |

Coriander – इसे धनिया कहा जाता है जो की भारत के सभी घरो में यह बड़े आसानी से उपलब्ध होता है, परन्तु गरम मसाला में इसके बीज के चूर्ण को इस्तेमाल किया जाता है |

Saffron – यह एक काफी महंगा मसाला है जिसे केसर बोला जाता है | इसका इस्तेमाल भोजन के स्वाद को बढ़ने के रूप में किया जाता है | इसे मसाले में शिर्फ़ नाम मात्र का मिलाया जाता है, अगर आप इसका अधिक इस्तेमाल करते है तो यह आपके भोजन के स्वाद को ख़राब कर देता है |

Agar aapko aur koi different masale ke bare mein jankari ho to yahan par jarur share kare |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *