Lord Shiva Puja Vidhi aur Mantra – भगवान शिव

By | January 28, 2016

Janiye kaise kare Shiv ji ki Puja apne ghar mein pure Vidhi, Mantra aur Puja Samagri ke saath. शिव जी को देवो के सबसे श्रेष्ट देव कहा जाता है। इनकी पूजा करने से पूर्व इनके पुत्र श्री गणेश की पूजा की जाती है । शिव जी को अगर खुश करना है तो उनके पूजा करते समय उनकी पसंद के चीजो का चढ़ावा चढ़ाना चाहिए जैसे की भांग, धतुरा, बेलपत्र, दूध आदि । शिव जी की पूजा पूरी विधि के साथ करने पर मन चाही फल की प्राप्त होती है वहीँ शिव पूजा में शिव मंत्र का अपना हीं एक अलग महत्व होता है । तो चलिए जानते है शिव पूजा विधि को और शिव पूजा के दौरान पढ़े जाने वाले मंत्र को ।

Bhagwan Shiv ji ki Puja Vidhi

Kaha jata hai ki Bhagwan Shiv ji ko prasan karna kafi aasan hai agar aap sacche dil se prathna karte hai to. Aur sabse acchi baat yah hai ki Shiv ji ko prasan karne ke liye koi upay ki jarurat nahi padti, bus aapmein sacchi bhakti aur shradha honi chahiye. To chaliye  jante hai Shiv ji ki puja karne ki vidhi aur kaise kare:

पूजा की सामग्री / Puja Samagri

  • भांग, बेल पत्र, जल से भरा लोटा
  • दीप, गंगाजल, धूप, इत्र , धतुरा
  • फल, फूल, पांच मेवा
  • चंदन (sandal) और रोली
  • हल्दी और श्रृंगार के लिए अष्टगंध
  • नारियल , पंचामृत (अभिषेक के लिए)

भगवान शिव जी की पूजा की विधि / Puja Vidhi for Lord Shiva

Isse pahle aapko batlaye ki Shiv ji ki puja kaise kare, yah janana jaruri hai ki kis din puja ya vrat karna chahiye. Jaisa ki ham sabhi jante hai ki Bhagwan kewal shradha aur sacchi bhakti par viswas karte hai, isliye aap kisi bhi din puja kar sakte hai. Waise Somwar (Monday) ka din accha hota hai.


  • First of all पूजा की सारी सामग्री को ले कर शिवलिंग के समक्ष बैठ जाएँ ।
  • शिवलिंग की पूजा प्रारंभ करने से पूर्व गणेश जी की पूजा करें ।
  • अब संकल्प लेंने के लिए हाँथ में पुष्प व अक्षत लें और कहें “हे प्रभु मै ये पूजा अपने बुरे कर्मो का नाश हेतु कर रहा / रही हूँ इसलिए जब तक मै आपकी पूजा करता रहूँ तब तक के लिए कृपया आप इस shivling में मौजूद रहें ”।
  • संकल्प ले लेने के बाद शिवलिंग के समक्ष दीप जलाएं और फिर शिवलिंग पर जल चढ़ाये ।
  • फिर “ॐ नमः शिवाय” का chanting करते हुए shivling का अभिषेक पंचामृत से करे।
  • फिर से शिवलिंग पर जल चढ़ाए ।
  • अब गंगाजल चढ़ाएँ और फिर इत्र छिड़के ।
  • उसके बाद अष्टगंध द्वारा शिवलिंग का श्रृंगार करें ।
  • फिर शिवलिंग पर हल्दी, चन्दन और रोली चढ़ाएँ ।
  • अब बेलपत्र चढ़ाए क्योंकि कहते है ऐसा करने से धन हांसिल होती है। बेलपत्र चढ़ाने समय शिव जी के इस मंत्र (Lord Shiva Mantra) को पढ़े :

       ।। दर्शनं बिल्वापत्रस्य स्पर्शनं पापनाशनम।

         अघोर्पापसन्हाराम बिल्वपत्रं शिवार्पनाम ।।

  • अब शिवलिंग पर फूल व माला अर्पित करे । फूल चढ़ाने समय इस मंत्र को पढ़े :

।।  नमः पार्याय चावार्याय च नमः प्रतरणाय चोत्तरणाय च ।        नमस्तीर्थ्याय च कूल्याय च नमः शष्प्याय च फेन्याय च।।

 

  • अब भांग,धतुरा चढ़ाएँ ।
  • फिर नारियल और मेवे चढ़ाएँ ।
  • अब शिवलिंग को धुप दिखाएँ ।
  • अब खड़े हो कर दीप दिखाते हुए शिव चालीसा पढ़े ।
  • उसके बाद शिव जी की आरती भी गाएँ ।
  • जब शिव जी की आरती समाप्त हो जाए तो “ह्रीं ॐ नमः शिवाय ह्रीं” का 108 बार जाप करे।
  • जाप हो जाने के हाँथ जोड़ कर उनसे prayer करे और कहें “हे प्रभु मै ये पूजा और जाप आपको समर्पित करता/करती हूँ कृपया मेरी पूजा को स्वीकार करे” और उसके बाद जितना हो सके इस मंत्र का जाप करे “ॐ हौं जूं सः” ।
  • अब माता पारवती और फिर नंदी की पूजा करे ।

16 thoughts on “Lord Shiva Puja Vidhi aur Mantra – भगवान शिव

  1. govindkumar shukla

    Dhanyawad Mahadev ji ki bare mein jankari dene ke liye

    Reply
  2. mohit

    Jai shambhu… Guru dev Ki pooja ki vibhi spasht karne k liye dhanyawaad..

    Reply
  3. Anupam Jha

    हर हर महादेव।।।
    धन्यवाद महाशय

    Reply
  4. Shubham Kumar

    Thanks you for sharing
    Shivji ki pooja vidhi & mantra batane ke liye

    Reply
  5. balraj

    kya aap mujhe shiv or parvati ki ek sath boli jane wali aarti or chalisa bta skte hai, jisme dono ki stuti ek sath ki jati ho? plz

    Reply
    1. Vishal Jaiswal

      Karpur guram Karuna vataram
      Sansar saram bhugendra haram
      Sada basantam hirdyavadante
      Bhawam bhawani sahitam namami
      Yeh Jo mantra Hai Wo
      Shiv Ji Aur Parvati ji dono ke liye hai
      Aur saare devi devta bhi aa jaate Hai
      Isme…

      Reply
  6. h p nayak

    in some poja vidhi it is advised not to use haladi. please clarify.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *