Mahavatar Babaji – Wiki, Story, Quotes, Cave Address

By | September 2, 2016

Mahavatar Babaji जी एक भारतीय साधू और योगी थे, जानिए उनके Wiki, DOB, story, बचपन से जुडी कहानियाँ, उनकी गुफा जो की उत्तराखण्ड में है – quotes Hindi से जुडी जानकारी | महावतार बाबाजी गुफा हिमालय में स्थित है, यह गुफा उत्तर भारत में उत्तराखण्ड राज्य के अल्मोरा जिले के Dunagiri नामक ऐतिहासिक क्षेत्र के Kukuchina नामक स्थान पर स्थित है | इस गुफा में बाबा महावतार ने अपने शिष्यों के साथ योग क्रिया किया करते थे |

Mahavatar Babaji

महावातर बाबा एक भारतीय संत महात्मा थे, जो प्रायः हिमालय पहाड़ पर रहा करते थे | परमहंस योगानन्द द्वारा रचित पुस्तक ‘एक योगी की आत्मकथा’ में परमहंस जी का महावरात बाबाजी से मुलाकात का वर्णन किए है | महावतार बाबाजी का नाम और जन्म तिथि किसी को ज्ञात नहीं है | लाहरी महाशय द्वारा दिए गये नाम से लोग इन्हें महावतार बाबाजी के नाम से प्रसिद्ध हुए |

जन्म स्थान / Birth and Place

Marshall Govindan द्वारा रचित पुस्तक की माने तो महावतार बाबाजी का नाम नागाराजन एवं बाबाजी का जन्म 30 नवम्बर 203 CE को तामिलनाडू के Cuddalore नमक जिले के Parangipettai गाव में हुआ था | इनका असली नाम नागराजन था |

महावतार बाबाजी के आराम्ब्हिज जीवन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, परन्तु बाबाजी के बचपन के बारे में Marshall Govindan द्वारा रचित पुस्तक ‘Babaji and the 18 Siddha Kriya Yoga tradition’ में वर्णन किया है |

बचपन / Childhood

जैसा की Wiki से जानकारी मिली है, बाबाजी जब 5 साल के थे तब किसी न उनका अपहरण कर लिया था और उन्हें Kolkata में बेच दिया था | परन्तु owner दयालु और अच्छा इंसान था और उसने नागराज को रिहा कर दिया | मुक्त होने के बाद बाबा जी एक छोटे से सन्यास समूह में शामिल हो गए, उन्होंने देखा की सन्यासी के चहरे पर अजब से शांति और चमक थी और भगवान के प्रति अथाह प्रेम था | बाद में बाबाजी ने काफी स्थानों में भ्रमण किया और साथ ही साथ वेदा, उपनिषद् के साथ महाभारत, श्री भगवद गीता और रामायण पढ़ी और शिक्षा ग्रहण की |

Statue of Shri Mahavatar Babaji

साक्षात्कार 

 

श्यामाचरणलाहरी जी के अनुसार उन्होंने साक्षात दर्शन 1861 में क्या था | इसके पीछे कहानी यह है की लाहरी जी एक बार दूनागिरी पहाड़ की तरफ जा रहे थे (जो की आज उतराखंड में पड़ता है) तभी किसी ने पहाड़ की ओर से उनका नाम पुकारा | उन्होंने ऊपर जा कर देखा की एक लम्बा, चहरे पर तेज एक साधू सामने खड़े थे | लाहरी जी को बड़ा अजीब लगा की आखिर कैसे यह महापुरुष उनका नाम जानते है | तब उन साधू न बतलाया की वो पिछले जन्म में उनके गुरु थे और इस बार फिर से प्रकट हुए है ताकि “क्रिया योग” के द्वारा अन्य लोगो को लाभ पहुच सके | और उन्होंने लाहरी जी को आदेश दिया कि वो जा कर और अन्य लोगों को इस क्रिया योगा साधनाके बारे में बतालए और जागृत करे | इसके बाद उन्हें महावातर बाबाजी के नाम से जाने जाना लगा |

Mahavatar Babaji Cave in Dunagiri Mountain

Location

आज महावतार बाबाजी का गुफा उत्तराखण्ड के अल्मोरा जिले में Kukuchina से 13 km की दुरी पर स्थित है |

Mahavatar Babaji Quotes

निचे दिए गए कुछ popular quotes है जिन्हें Hindi में translate किया गया है:

प्यार अबाधित संतुलन है कि एक साथ इस ब्रह्मांड बांधता है

Address

Mahavatar Babaji Cave
Located At – Kukuchina
Place – Dunagiri
District – Almora
State – Utarakhand

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *