Migraine Symptoms and Treatments in Hindi – माइग्रेन उपाय

By | May 28, 2015

Migraine in Hindi – अर्धकापाली जिसे अंग्रेजी में migraine कहा जाता है | माइग्रेन एक खतरनाक बीमारी है, जिसके होने पर सर में तेज दर्द होने लगता है | इस्से प्रभावित सख्स हिस्से होने वाली दर्द के कारण बेचैनी महसूस करने लगता है | वर्तमान के समय में migraine की समस्या प्राय सभी लोगो(male, female) में देखा जा सकता है | migraine की बीमारी किसी भी वर्ग एवं किसी भी आयु के लोगो में हो सकती है | इसके कारण उत्पन होने वाला सर दर्द करीब 5 घंटे से लेकर तीन दिनों तक रह सकता है |

Simple treatments for Migraine in Hindi

Ardhkapali ya migraine, ek khatarnak bimari hai . jiske hone par sar me tej dard hone lagta hai.  Isse prabhawit sakhsh isse hone waki dard ke karan kafi bechaini mehsuskarne lagta hai . vartman me migraine ki samsya praya sabhi logo me dekha jata hai , jisme 15 ya use adhik umr ke sabhi  istri –  purush  me dekha ja sakta hai .  maigraine se hone wala dard 5 ghante se lekar 3 din tak rah sakta hai.

Lakshan- migraine ki samasya hone par  logo ke jiwan me kai taraha ke badlao ane lagte hai. Unke dainik jiwan me ewam pratidin ke rahan sahan me migraine ka ashar dikhne lagta hai .  migraine se pidit wyakti ke swabhao me bhi badlao ane lagta hai . aksar  migraine se pidit wyakti ke bartao me chhidhchidha pan ka asar dekhne ko milta hai . wo koi bhi baat par gussa hone jaisa  pratikriya  dene lagta hai .

माइग्रेन के लक्षण – Symptoms

Migraine की समस्या होने पर लोगो के जीवन में कई तरह के बदलाव आने लगते है , उनके दैनिक जीवन एवं प्रति दिन के रहन सहन में migraine का असर दिखने लगता है | मैग्रैने से पीड़ित व्यक्ति के स्वभाव में भी बदलाव होने लगता है | अक्सर migraine से पीड़ित व्यक्ति के बर्ताव में चिढचिढापन का असर दिखने लगता है , वो कोई भी छोटी-छोटी बात पर गुस्सा करने लगता है | ऐसी प्रतिक्रिया वह migraine से होने वाले तनाव के कारण करता है |

माइग्रेन के कुछ प्रमुख लक्षण – Few major symptoms of Migraine 

  • migraine होने पर जी मचलने लगता है, शारीर असहज महसूस करने लगता है|
  • उलटी आने लगता है |
  • सिर में भारी पन होने लगता है |
  • सर के पीछे की भाग जो गर्दन से सटा होता है उसमे दर्द महसूस करना |
  • तिव्र रौशनी से आंख में जोड़ पड़ना |
  • ज्यादा आवाज या शोर होने पर चिढचिढापन होना या महसूस करना|
  • हर वक्त तनाव में रहना|
  • नींद पूरा न होना|
  • migraine से होने वाली दर्द हमेशा शाम के समय प्रारंभ होता है |
  • migraine के कारण आँखों में भी दर्द होने लगता है|

अर्धकापाली होने के कारण (Causes of migraine)

साधारणता migraine होने के कई कारण हो सकते है | जैसे ;-


  • अत्यधिक काम का दबाव ;- रोजाना अगर कम का अधिक दबाव होने से भी migraine की समस्याए होती है |
  • नींद का पूरा न होना ;– देर रात तक जागने एवं नींद पूरी न होने से भी migraine होने का खतरा बना रहता है |
  • मस्तिस्क के धमनियों में सिकुड़न ;- मस्तिस्क के धमनियों में सिकुड़न के कारण रक्त संचार में बाधा उत्पन होने से |
  • मस्तिस्क में रक्त के श्रव में बाधा ;- मस्तिस्क में रक्त के श्रव में बाधा उत्पन होने पर तथा मस्तिस्क के धमनियों में अगर रक्त का संचार सही तरीके से न होंने पर मस्तिस्क तक ऑक्सीजन नहीं पहुच पता है जिस्से मस्तिस्क में पीड़ा होने लगती है |
  • मस्तिस्क के नसों के छतिग्रस्त होने से ;- मस्तिस्क के नसों में अगर किसी प्रकार के चोट के कारण अगर रक्त का जमाव हो जाए तो भी migraine होने का खतरा होता है |
  • तेज धुप में घुमने से एवं अत्यंत ठंड मौसम के कारण भी migraine की सिकायत हो सकती है |
  • धुम्रपान (smoking) ;- अधिक धुम्रपान करने की आदत से भी migraine होने का खतरा रहता है

 

अर्धकापाली  से निजात पाने के लिए घरेलु उपाय  – Simple home remedy to get rid of Migraine  

  • ठन्डे पानी से मसाज ; – अगर आपको migraine की शिकायत है , तो आपको अपने सर पे ठन्डे पानी से भींगा हुआ कपडा को 25 से 30 मिनट तक रखे रहना चाहिए जिस्से migraine से होने वाली दर्द से रहत मिलती है |
  • शांति बनाये रखना ;– migraine की दर्द से बचने का एक उत्तम उपाए मस्तिष्क को शांत बनाये रखना भी है | जिस्से मस्तिष्क को आराम मिलता है |
  • खली पेट न रहे ;– migraine से बचने के लिए हमेशा एक निश्चित अंतरल पर कुछ न कुछ खाते रहना चाहिए | जिस्से पेट खाली न रहे |
  • अच्छी नींद ;- अच्छी नींद  लेने से भी अर्धकापाली में फ़ायदा पहुचता है | इसके लिए कम से कम 8 घंटा सोने की कोशिश करे |
  • मेहँदी का लेप ;- मेहँदी के लेप को लगा कर रखने से भी migraine में राहत  मिलता है |
  • प्रोटीन युक्त अहार ;- migraine से बचने के लिए प्रोटीन युक्त अहार ले जैसे मछली आदि, इसके अलावा हरी सब्जियों को अपने भोज्य पदार्थो के तलिका (list) में सामिल करे |
  • नमक का प्रयोग (salt) ;- चुटकी भर नमक को 20 से 30 सेकेण्ड तक अपने जीभ में रखने के बाद उसे पानी के साथ निगल जाए | इस्से भी आराम मिलेगा |
  • धुप से परहेज ;- कड़े धूप में बाहर निकलेने से परहेज करे |
  • नवरत्न तेल ;- बाजार में उपलब्ध नवरत्न तेल के सर में लागाने से ठंडक मिलती है और migraine से राहत मिलती है |

2 thoughts on “Migraine Symptoms and Treatments in Hindi – माइग्रेन उपाय

  1. meera

    Thanks to u apki vajah se muje itni acchi jankari mil shaki thank you verry much

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *