Most Common Disease in Cow and Treatment in Hindi

By | April 20, 2017

These are most common diseases found in Cow – find its treatment in Hindi – जानिए दुधारू गायों और भैसों में होने वाली बीमारी और उसके उपचार का इलाज | क्या आपको पता है की cow यानि की गाय को भी कई तरह के disease होते है ? आज हम इस article में आपको cow में पाए जाने वाले most common disease के बारे में बताने जा रहे है साथ हीं उन सभी diseases के treatment के बारे में भी बताएँगे । तो चलिए जानते है गाय में पाए जाने वाले most common disease क्या क्या है ।

Common diseases in cow in India

यह बीमारी लगभग सभी गायों के नस्लें में पाया जाता है | अतः गाय पालक जो dairy business से जुड़े हैं उन्हें इसे जरुर पढना चाहिये ताकि होनेवाले नुक्सान को कम किया जा सके |

Most Common Disease in Cow / गायों में पाये जाने वाली प्रमुख बीमारियाँ 

1. Anthrax disease

ये एक बहुत हीं संक्रामक और घातक बीमारी है जो की कीटाणु ऐंथरैसिस (Bacillus anthracis) नामक एक अपेक्षाकृत बड़े बीजाणु-गठन आयताकार आकार के जीवाणु के कारण होता है । एक बार जिस गाय में इस बीमारी का लक्षण दिख जाए वो गाय आमतौर पर दो से तीन दिनों के अन्दर मर जाती हैं । अचानक से गाय की मौत हो जाना, कभी-कभी उच्च तापमान में भी कांपना, सांस लेने मे तकलीफ होना आदि इस बीमारी के लक्षण होते है । 

Treatment / उपचार

अचानक से गाय की मौत हो जाने की वजह से आमतौर पर गाय का उपचार संभव नहीं हो पाता  है। लेकिन फिर भी सामान्य एंटीबायोटिक दवाओं जैसे पेनिसिलिन, टेट्रासाइक्लिन, एरिथ्रोमाइसिन, और सीप्रोफ्लॉक्सासिन से इस बीमारी का इलाज किया जा सकता है।

2. गलघोंटू रोग

ये रोग गाय में पाया जाने वाला एक बहुत ही घातक रोग होता है। ये रोग काफी तेज़ी से फैलता है और आमतौर पर बरसात के समय में पाया जाता है। fever, गले में सूजन, सांस लेने में problem  आदि इस रोग के symptoms होते है । कई बार तो इस रोग के symptoms दिखाई भी नहीं देते है और गाय की मृत्यु हो जाती है ।

Treatment / उपचार

  • इस रोग के लक्षण दिखाई देते हीं फ़ौरन हीं veterinary doctor को दिखाना चाहिए नहीं तो गाय की मृत्यु हो जाती है ।
  • गाय को रोगनिरोधक टीके लगवाएं । ये टीका सभी पशुओं को मेडिकल संस्थानों में free में लगाया जाता है ।

3. Rinder pest (पशु प्लेग)

पशु प्लेग भी गाय में पाया जाने वाला एक बीमारी है। इस बीमारी में गाय के लार, आँखें और नाक से होने वाले flow और मूत्र एवं मल में virus पाया जाता है। virus आमतौर पर दूषित खाना व  पानी से फैलता है। इस बीमारी में गाय को तेज दस्त एवं पेचिस हो जाता हैं। इस बीमारी के वजह से गाय दूध देना कम कर देती है ।

Treatment / उपचार  

इस बीमारी के बढ़ने से पहले हीं गाय को किसी पशु चिकित्सक से दिखाएँ वरना गाय की मौत भी हो सकती है ।

4. Mastitis (थन की सूजन)

थन की सूजन डेयरी पशु जैसे की गाय, भैंस में सबसे आम बीमारी होती है । हालांकि किसी तरह की चोट लगने से भी mastitis हो सकता है लेकिन बैक्टीरिया या अन्य सूक्ष्मजीवों के हमले से भी गाय में ये रोग पाई जा सकती है । यह एक आम बीमारी है जो की अक्सर गायों में होती है, तो अगर आप dairy business से जुडी है तो इस बीमारी से बच कर रहे |

Treatment / उपचार

  • सल्फोनामाइड, पेनिसिलिन और स्ट्रेप्टोमाइसिन जैसे दवाओं से इस बीमारी का इलाज किया जा सकता है ।
  • गाय के रहने वाली जगह को नियमित फिनाईल के घोल व अमोनिया कम्पाउन्ड से सफाई करे ।
  • दूध दुहने के बाद थन की लाल पोटाश उपयोग कर के अच्छे से सफाई करे । 

5. Ringworm (दाद)

गाय में पाया जाने वाला ये एक आम skin disease है। ये बीमारी भी फंगस के कारण होता है । आमतौर पर ये रोग गाय के सिर और गर्दन के क्षेत्र में पाया जाता है । चूँकि ये रोग फैलने वाला होता है इसलिए प्रभावित गाय को बाकि के अन्य गायों से अलग रखना चाहिए ।

Treatment / उपचार –

  • इस बीमारी के इलाज के लिए गाय को पशु चिकित्सक से दिखाएँ ।

6. मुंहपका-खुरपका रोग (Foot-and-mouth disease)

ये एक आम बीमारी है । इस बीमारी में मुंह, आटे, टीट्स और पैर की उंगलियों और खुर के ऊपर छाले और फफोले हो जाते है । ये रोग किसी भी age की गायें और उनके बच्चों को हो सकता है । ये बीमारी आमतौर पर संक्रमित पानी, खाद, घास और चरागाह के माध्यम से फैलता है ।

Treatment / उपचार –

  • एंटीसेप्टिक्स का बाहरी उपयोग कर के अल्सर और फफोले का उपचार किया जा सकता है ।
  • रोगग्रस्त गाय के पैर को नीम और पीपल के छाले से काढ़ा बना कर धोएं ।
  • मुंह के छाले को ठीक करने के लिए 1g फिटकरी (alum) को 100ml पानी में घोलकर दिन में कम से कम तीन बार धोएं ।

7. लंगड़ा बुखार

इस बीमारी की वजह से गाय के अगले व पिछले दोनों टांगों के ऊपरी हिस्से में swelling हो जाती है और गाय लंगड़ा कर चलने लगती है ।

Treatment / उपचार –

  • इस बीमारी के इलाज के लिए गाय को पशु चिकित्सक से दिखाएँ अन्यथा गाय की मौत हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *