Moti (Perl) Ki Kheti Kaise Kare – मोती की खेती

By | July 14, 2016

Kya aap jante hai ki Moti ki vaigyanik kheti kar ke aap lakhon kama sakte hai? Pearl farming ek profitable business hai India mein. जानिए मोतियों की खेती से जुडी जानकारी | मोती एक Natural Gems है जो की सिप के द्वारा पैदा होता है | मोती दुसरे अन्य रत्नों के मुकाबले देखने में जयादा आकर्षक लगता है | मोती की demand पुरे world में है, और इसकी demand दिन बा दिन बढती ही जा रही है | Natural मोती का development तब होता है जब किसी सिप के अंदर किसी तरह का किट कंकड़ चला जाता है, और सिप उसे बाहर निकल नहीं पाते है और उस पर चमकीला परत जमने लगती है, इस तरह से एक प्राकृतिक रत्‍न का निर्माण होता है |

Moti ki Kheti - Gems Farming in India

भारत से मोती अति प्राचीन काल से जाना जाता है | भारत को पूरी दुनिया में सबसे finest ‘Oriental Pearls’ के लिए जाना जाता था जिसका demand पुरे world में था | हलाकि भारत में प्राकृतिक मोतियों को बनाना तथा इसकी खेती करना भारत में चार दशक पहले बंद कर दिया गया है | इसलिए भारत आज अपने घरेलु मांग को पूरा करने के लिए International Markets से हर साल मोतियों को import करता है | भारत प्रमुख आयातकों में से एक है जो की हर साल US $ 4 million के मोतियों को import करता है | भारत में Gulf of Mannar, Andaman and Nicobar Islands, और Gulf of Kutc में मोतियों की खेती की जाती है |

Hamare India me kai log Moti ki kheti kar ke lakhon mein kama rahe hai. Aise he ek kisan bhai hai jo Maharashtra se hai, aur har saal Rs 10 – 11 lakh earning karte hai. गढ़चिरोली नामक गावं जो की महाराष्ट्र में आता है – In kisan bhai ka naam hai Sanjay Gandate ho ki har saal austan 10 se 11 lak Rs kamate hai.

To agar aap bhi Moti ki farming ki jankari khoj rahe hai to ise jarur padhiye.

मोती उत्पादन के तरीके 

Waise to Moti ko ugane ka  ek hi adhunik tarike hai, jiske dawara aap moti ka utpadan karke local market mein ise sell kar sakte hain.

1) सीपों को इकट्ठा करना – सबसे पहले तो सीपो को नदी तालाबो से जमा कर के उन्हें एक बड़े आकार के बर्तन या बाल्टी में रखा जाता है | इसके लिए आप आस पास के नदियों और तालाबो में से सीपो को इकट्ठा कर सकते है | या फिर नजदीकी मछुवारों से कम दामों में सिप खरीद सकते है |

2) अनुकूल बनाना – जमा किये गए सीपो का इस्तेमाल होने से पहले उन्हें 2 से 3 दिनों तक उन्हें पानी में रखा जाता है, ताकि सीपो के माँसपेशियाँ ढीला पड़ जाए और उनका surgery आसानी से किया जा सके | इसके लिए आपको यह ध्यान देना जरुरी है की सीपों को पानी से ज्यादा देर बाहर नहीं रखे, नहीं तो सिप ज्यादा देर तक जिन्दा नहीं रह पायेगी |

3) सर्जरी – मोती उत्पन्न करने के लिए सीपो का surgery तीन तरह से किया जाता है |

  • सतह के केंद्र की सर्जरी – इस प्रक्रिया में Surgical instruments की मदद से 4 से 6 mm size के frame बना कर सीपो के सतह को अलग कर के उसके अंदर इन फ्रेम को रखा जाता है | | इस surgery में यह कोशिश किया जाता है की design वाले हिस्से को surface के ओर रखा जाए फिर उसमे थोडा स्पेस छोड़ कर सिप को बंद कर दिया जाता है |
  • सतह कोशिका की सर्जरी – इस प्रक्रिया में सीपो को दो भागो में (दाता और प्राप्तकर्त्ता कौड़ी) में बाटा जाता है | 1st step में सीपो के cell में छोटी छोटी हिस्सों में कलम किया जाता है | इस surgery में सीपो के किनारे पर सतह के एक पट्टी बनाई जाती है | इसमें 2/2 mm के दो छेद कर के इसके अंदर design वाले frame को डाल कर इसे बंद किया जाता है |
  • प्रजनन अंगों की सर्जरी – इस प्रक्रिया में भी सीपो को कलम किया जाता है | इस प्रक्रिया में सीपो के प्रजनन अंगो के किनारे को हलक काट कर 2-4 mm का Nucleus को डाला जाता है | Nucleusको इस तरह से डाला जाता है कि Nucleusऔर कलम दोनों एक साथ आपस में जुड़े रह सकें | surgery करते समय इस बात का ध्यान रखा जाता है की न्यू‍क्लीीयस कलम के बाहरी हिस्से से संपर्क करता रहे |

सीपों की देखभाल

सिप को nylon के bag में 10 दिन तक इन्हें antibiotic और natural feed पर रखा जाता है | कई बार antibiotic के लिए थोडा सा हल्दी का प्रयोग किया जाता है | रोजाना इन शिपो का inspection किया जाता है और जो सिप मर जाते है उनके body से Nucleus को निकल कर सिप को bag से बाहर निकाल देते है |

तालाबो में पालना

Pond Prepration for Gems Farming

10 दिन के inspection के बाद जो सीपे बच जाती है उन्हें nylon के bag में रख कर (1bag में 2 सीपे) इन्हें बांस या किसी अन्य pipe के सहारे लटका कर इन्हें तलाब में 1 meter गहरे पाने में इन्हें छोड़ दिया जाता है | production के बढ़ाने के लिए तालाबो में Organic और Abiotic खाद का प्रोयग किया जाता है | बिच बिच में बैगो में रखे सीपो का inspection किया जाता है ताकी जो सिप मर गए है उन्हें bag से निकाल कर बाहर किया जाता है | सीपो के इन बागो को 15 से 20 महीनो के अन्तराल में इन बैगो को साफ करने की आवश्यकता होती है |

सीपो से मोतियों को निकलना– सीपो के pan अवधि 1.6 year से ले कर 2 साल तक होती है, और इसके पूरा होने पर सीपो को तालाबो से निकाल कर, उनके कोशिका या प्रजनन अंगो से मोती को निकाला जाता है |

Estimate Costing to Start Pearl Farming

Agar aapke pass 1,000 Sq. Feet ki place ho to aap ek small scale ka moti farming ka business start kar sakte hai. Iske alawe aap kuch aur chijon ki jarurat hogi jo ki is prakar hai:

Matterial Cost (in Rs)
Structure Setup Rs 10,000 to 15,000
Surgical Sets (for 1set) Rs 200 to 500
जिन्दा सीप – 100 Rs 1,500 to Rs 2,500
Water Treatment Rs 1,000
Food Wastage for Pond Rs 500
Miscellaneous Rs 3,000
Total Expenses Rs 20,000 to 22,000

मोतियों का बाजार में मूल्य / Market Rate of Pearl

यह सच बात है की मोती की खेती करने के लिए आपको काफी धैर्य और सिखने की ललक होने चाहिये | औसतन एक मोती की कीमत आपको Rs 250 से लेकर Rs 500 तक मिल सकती है अगर आप किसी agent के द्वारा sell करते है |  परन्तु अगर आप इसे directly market में sell करते है तो quality की हिसाब से आपको आसानी से Rs 600 से  Rs 800 मिल जायेंगे | अगर आप एक बार मोती उगाने की कला सिख जाये तो Moti ki kheti ek profitable business sabit ho sakti hai.

Pearl Farming Training

मोतियों की खेती के लिए CIFA (ICAR) traning भी प्रदान करती है | यदि आप मोतियों की खेती करने से पहले कुछ आवश्यक जनिकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप CIFA (ICAR) में traning कर के प्राप्त कर सकते है | CIFA (ICAR) में मोतियों की खेती के लिए 8 दिनों की training दी जाती है |

CIFA (ICAR) contact details

contact number :

  • 0674-2465-421
  • 0674-2465-446

Email address : Director.Cifa@icar.gov.in  

Address :

Office at – ICAR-Central Institute of Freshwater Aquaculture
Located at – Kausalyaganga,
City – Bhubaneswar
State – Odisha

23 thoughts on “Moti (Perl) Ki Kheti Kaise Kare – मोती की खेती

  1. nitin b. fargade

    i really want to learn how to do moti kheti in maharashtra, so please where exactly i can find the institute of near mumbai.
    muze moti ki kheti sikhni hai so please co-operate for me

    Reply
    1. VIJAY GODSE

      I want to do moti kheti in maharashtra nasik. Please guide me.

      Reply
  2. tarun kumar

    my self tarun kumar .I am state bank employees .I have 5 Acer land I wana farming of Perl
    so plz suggest me any idea about this farming

    tarun kumar
    Rewari ( haryana)

    Reply
    1. SURENDRA PAL SINGH

      Dear sir,
      Please send your quotation for the following specifications. We expect to get good designing as well as printing output.
      Bulletin of Information for admission: Total pages (24+4) with +- 4 pages, inner printed in 4+4 Colour on 170 GSM Maplitho Art Paper & Cover printed in 4+4 Colour on each 300 GSM Imported Art Card (Center Stapple Binding and Lamiantion of cover (front page as well as back page)) by offset process/digital printer. Designing Cost include
      Size: 8” x 10”
      Quantity: 300

      Flayers: Printed in 4+4 Colour on 170 GSM Imported Art paper by offset process/digital printer. Designing Cost include.
      Size: A4 open
      Quantity: 500

      Reply
      1. Dilip Singh

        I would like to get the training for pearl farming, could you please send some more details about it.

        Reply
  3. ramchandra patidar

    i intrested in moti farming so give me some more information

    Reply
  4. Babu parmar

    me gujarat se hu muze moti sikhani hai so give me some more information

    Reply
  5. sunay khallarkar

    Maharastra me agar iska institute hai to please muze details mail kijiye.

    Reply
  6. brijesh

    Hi I am Brijesh
    Agar AP log moti ki farming karna chatey ho to contact me my whatsup no.9634141520
    7500038161

    Reply
  7. Mo.Tokeer khan

    Shir me madhya pradesh ka rahne wala hu kya me training le sakta hu.

    Reply
  8. Nilesh

    Sir me GUJARAT ka rehne vala hu,
    Muje moti ki kheti ke bareme janna he so advise in Gujarat trening center

    Reply
  9. Jack

    Any one has information about training center in Maharashtra? Please let me know ASAP……

    Reply
  10. Vinod Bhushan Sharma

    I am interested in freshwater aquaculture. Please advise me and to provide all information related to this business. Thanks

    Reply
  11. rajive chauhan

    i am from uttar pradesh…meerut…..kya ye farming yaha ho sakti hai meerut may ….or yha par mere apni kheti ki jmeen bhi hai

    Reply
  12. vishal

    Sir me ek chhota kisan hu
    or me punjab se hu to mujhe traning leni ho to kya kru

    Reply
  13. Pradeep Kiranrao Shende

    I want Moti farming ditelas & trening center in Maharashtra. Plz. Sir

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *