बवासीर के घेरुलू इलाज – Piles Treatment at Home in Hindi

By | November 7, 2015

Simple Piles Treatment at Home in Hindi – जानिए बवासीर का कौन सा इलाज कारगर है और कैसे इसे ठीक करे Ayurveda और घरेलु उपाय और tips के द्वारा | अंग्रेजी में बवासीर को piles कहा जाता है। यह बीमारी बहुत ही कष्टदायक होती है। इसमें मलत्याग(potty) करने के रास्ते में मस्सा हो जाने की वजह से मलद्वार करने में काफी असहनीय दर्द होता है । बवासीर(piles) दो  तरह के होते है एक मलाशय के अन्दर और दूसरा मलाशय के बाहर की तरफ। अंदर की बवासीर में मस्सा मलाशय के अन्दर की ओर होता है जिसमे कब्ज की वजह से जोड़ लगाने पर मस्सा बाहर निकल आता है और फिर बहुत दर्द भी होता है। बाहर के बवासीर में मस्सा मलाशय के बाहर होता है जिसमे दर्द नहीं होता है लेकिन कभी कभी कब्ज की वजह से खून निकल आता है । बवासीर के मरीज को गुड़, अंगूर, आम आदि से परहेज करना चाहिए और साथ ही बताए जाने वाले रामबाण इलाज का इस्तेमाल करना चाहिए |

Bawasir ka treatment aur ilaj jise piles bhi bolte hain

Hamare khan pane mein kafi changes hone ke karan kafi sare logon ko bawasir ko sikayat ho jati hai.  Jyada mamlon mein jo log kafi masaledar,khatta aur bahar ka khana kahte hai unhe piles hone ki jyada chances hoti hai.  Jo log jyada tikha aur khub masale ka prayog karte hai unhe bhi piles problem se do char hona padta hai. To chaliye jante hai piles ke symptoms aur iska treatment details mein.

Bawasir ke lakshan / Symptoms of Piles

Agar aap Bawaseer ke lakshan ko janana chahate hai to niche diye gaye example se samjhe:

  • मलाशय में दर्द का होना
  • मलाशय से कभी कभी खून का आना
  • बार बार कब्ज होना
  • भुख कम लगना
  • थोडा कमजोर लगना
  • खुजली होना
  • पेट में गैस का बनना

ये सभी  बवासीर के लक्षण होते है।


पाइल्स का इलाज/ Bawasir ka ilaj / Piles Treatment

  • 1 चम्मच दरदरा पीसा हुआ काले तील को दूध के मलाई या मक्खन में मिला कर खाने से piles में आराम मिलता है साथ ही मलत्याग(potty) के समय आने वाले खून भी बंद हो जाते है ।
  • आंवला जिसे पाइल्स का रामबाण दवा कहा जाता है इसका चूरण बना ले और इस चूरण को अगर शहद (honey) में मिला कर हर रोज कम से कम दो बार खाया जाये तो piles में राहत मिलती है ।
  • बवासीर में मस्से हो जाने की वजह से मलत्याग के समय काफी दर्द होता है। अगर उस मस्से पर जीरा को पीस कर लगाया जाये तो दर्द में आराम मिलाती है।
  • बवासीर के मरीज को मलत्याग (potty) के समय मलाशय में बहुत दर्द होता है जो की कभी कभी सहन करना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में अगर नीम के छिलके के साथ ६ से ७ ग्राम निंबौरी के powder को हर रोज सुबह सुबह उठने के साथ और रात को सोने समय पानी के साथ ले, इससे काफी राहत मिलती है ।
  • कई बार कब्ज की वजह से भी लोग बवासीर जैसे बिमारियों का शिकार हो जाते है। ऐसे में दही या छाछ का हर रोज सेवन करने से लोग बवासीर के लिए रामबाण इलाज है। इसके सेवन से बवासीर के मरीज को राहत भी मिलती है । यह ना केवल बवासीर से छुटकारा पाने में मदद करता है बल्कि और कई पेट की बिमारियों से भी बचाता है |

मुख्यतः Piles दो प्रकार के होते है, पहला Internal Piles और दूसरा External Piles | Internal Piles में मलद्वार के अन्दर की नसों में सुजन हो जाती है, और इसमे blood का रिशाव अन्दर ही होता है | परन्तु External Piles में मलद्वार के बाहर नसों में सुजन हो जाती है, यह काफी दर्द भरा होता है |

इसके अलावे आप बवासीर के लिए Anovate cream का इस्तेमाल कर सकते है परन्तु पहले अपने doctor से इसकी सलाह जरुर लें |

बवासीर से जुडी सावधानियां / Precautions during Piles

Piles पीड़ित व्यक्ति को कुछ महत्वपूर्ण बाते को ध्यान रखना चाहिए | Piles के दरमियान ये आपके जीवन शैली को आसान कर देगा, और साथ ही यह आपको इस बीमारी से लड़ने मे भी काफी सहायक शिद्ध होगा | तो चलिए जानते है ऐसे कौन से precautions है जिसे piles के समय ध्यान देना चाहिये :

  • Piles पीड़ित व्यक्ति को सबसे पहले अपने दिनचर्या में भोजन करने का समय निर्धारित करे एवं निर्धारित समय अनुसार भोजन ग्रहण करे |
  • अपने भोजन में रोजाना कम से कम एक रेसेदार सब्जी, सलाद और फल को शामिल करे | कोशिश करे की भोजन में तीखी मिर्च और मसाले का प्रयोग न करे |
  • नियमित रूप से पानी पिए एवं अपने दिनचर्या में चाय, कॉफ़ी जैसे पैय प्रदार्थ का सेवन नही करे |
  • अपने आहार में उन व्यंजनों का इस्तेमाल बंद करे जो आपके पेट में कब्ज बनाते हो |
  • मल का त्याग करते समय किसी प्रकार का तनाव न करे |
  • अगर आप चाय या कॉफ़ी जैसे प्रदार्थ का सेवन करते है तो इनके जगह छाछ का सेवन करे |

10 thoughts on “बवासीर के घेरुलू इलाज – Piles Treatment at Home in Hindi

  1. R L Thakur

    Sir mujhe 7 mahine se gudda ke andar se khun aata hai or jalan or kharish hoti. maine baba ramdev ki arshkal vati or triphala guggulu vati ki goliyan khai bhi par aaram nahi mil rha hai sir aap koi upaya btaye.

    Reply
    1. Bhagat Post author

      Thakur ji, agar blood aa raha hai to turant doctor se mil kar checkupar karwa lijiye taki ise badhne se roka jaa sake. Aur upar batlai gayi sawdhani ko barte.

      Reply
  2. Preet singh

    Sir, main army join karna chahta hu, par bavasir ke karan join nahi kar saka. Main apni family ko bhi nahi bol sakta.Please, bavasir ke liye koi aasan tarika bataye. Jis se 2 months tak main thik ho jau.

    Reply
    1. Bhagat Post author

      Preet ji,

      Family aapke sukh dukh mein saath deti hai. Aap sabse pahle apni bawasir ke problem ke bare mein family members ko batlaye aur batlaye gaye nukshe ko apnay. Aur saath he saath kisi acche doctor se checkup karwa ke treatment suru karwa lein.

      Reply
  3. Ankit Agrawal

    Sir mai 2 saal se babaseer ki bimaari se jujh rha hu, mai khane peene ka parhej krta hu or saath m dinbhar paani peeta hu or mujhe kabj ni bna hai kya kre theek ni ho rha hai aap koi upaay btaiye ni to mujhe operation krwana pdega…wese mujhe operation se bahut dar lgta hai….

    Reply
  4. mayank

    mere khun or dard ki problem h jo bahut jyada hai……….
    maine operation krwaya tha mgr 1 sal baad fir se wahi problem aa gyi hai kya ye kabhi nhi khatm hoga??????

    Reply
  5. Sagar bajaj

    Potey jata Hu to 1st wali bhot hard hoty hae jaise pathar dard brdasht n’ae hota aakho mae pani aanae jaisa Ho jata hae plz koe Perfect ilaz btao kabz b hae

    Reply
  6. raju kumar

    sir, mughe dho mahino se piles ka bimari huwa hai iska koi achuk eilaz btaia.

    Reply
  7. sudhir

    Sir muje bleeding ka problem hai…sauch k samay..bleeding hoti hai…plz kuch suzav bataiye..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *