Pneumonia Symptoms, Types, Causes, Treatment in Hindi

By | August 26, 2017

यह एक प्रकार का seasonal बीमारी है जिसे Pneumonia (निमोनिया) के नाम से जाना जाता है | आइये जानते है इसके symptoms (लक्षण), causes & treatment के बारे में | मानव शरीर में विभिन्न प्रकार की आन्तरिक संरचना है, जिसके सही रहने से हमारे शरीर स्वस्थ रहते है | शरीर के अन्दर किसी भी आंतरिक सरचना में समस्या उत्पन्न होने से मानव अस्वस्थ हो जाता है | ऐसी बीमारियों की सूचि में एक बीमारी निमोनिया शामिल है | Pneumonia मानव शरीर में होने वाला एक ऐसा बीमारी है जिससे फेफड़े में सुजन उत्पन्न हो जाता है | इस बीमारी का प्रभावित कारण bacterial infection होता है | इस प्रकार के infection व्यस्को में देखने को अधिक मिलता है | यह बीमारी पुरे वर्ष में विश्व के जनसँख्या के 7 % लोगो को प्रभावित करता है जिस कारण लाखो व्यक्तियों की मौत हो जाती है | 19वीं शताब्दी में इस बीमारी को विलियम ओस्लर द्वारा “मौत बांटने वाले पुरुषों का मुखिया” के रूप में संबोधित किया गया था | 20 वीं शताब्दी में इस बीमारी का एंटीबायोटिक उपचार एवं टीका का निर्माण किया गया था जिस कारण बहुत से लोगो की जान बच गई |

Pneumonia meaning, symptoms and treatment in Hindi

Pneumonia मनुष्यों में पाए जाने वाली एक बीमारी है, जिसमे लोगो के फेफड़े में संक्रमण के कारण सुजन आ जाता है | फेफड़े में सुजन होने के कारण मनुष्य को खांसी, सीने का दर्द, बुखार एवं सांस लेने में कठिनाई जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | इस समस्या से व्यक्ति को काफी पीड़ा होती है |

Types of Pneumonia

मानव शरीर में होने वाले यह बीमारी मुख्य रूप से 5 प्रकार के होते है जो निम्नलिखित है :-

  • Bacterial Pneumonia – यह बीमारी मनुष्यों को सामान्यतः जीवाणुवो के कारण होता है | यह बीमारी मनुष्य के सभी आयु वर्ग के लोगो को प्रभावित करता | इसमें मनुष्य का शरीर काफी कमजोड पड़ जाते है जिस कारण मनुष्य को साँस लेने में काफी परेशानी होती है |
  • Viral Pneumonia – इस बीमारी को शरीर में लाने वाला एक virous होता है, जो influenza, chickenpox, adenoviruses एवं respiratory syncytial जैसे virous से उत्पन्न होता है | इस बीमारी में मरीज के फेफड़े में सुजन नहीं होता बल्कि यह हमारे फेफड़े में oxygen के बहाव को रोक देता है |
  • Mycoplasma Pneumonia – इसे atypical या walking pneumonia भी कहा जाता है जो मनुष्य को प्रभावित करने वाले एजेंटो में से एक है | यह बीमारी 40 वर्ष से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों को अधिक प्रभावित करता है |
  • Aspiration Pneumonia – भोजन, तरल, गैस या धुल से होने वाले संक्रमण इस बीमारी का कारण बनते हैं |
  • Fungal Pneumonia – मनुष्य में पाए जाने वाले यह बीमारी फफूंदी के कारण उत्पन्न होता है |

Causes

किसी भी बीमारी के होने के पीछे कुछ कारण निहित होता है | ठीक उसी प्रकार इस बीमारी के होने का निम्न कारण महत्वपूर्ण है :-

  • बैक्टीरिया
  • वायरस
  • फफूंद
  • परजीवी

Symptoms

अगर कोई व्यक्ति इस बीमारी से ग्रषित है तो उसके शरीर में निम्न समस्या देखने को मिलता है :-


Treatment

अगर थोड़ी सी सावधानी बरती जाये तो Pneumonia के causes को पहचान कर इसका treatment घरेलु उपाय से आसानी से किया जा सकता है | मनुष्यों में होने वाले समस्या निमोनिया कई प्रकार के बैक्टीरिया एवं virous के कारण होते है जो मनुष्यों में बड़े ही आसानी पूर्वक फैलते है | प्रभावित व्यक्ति दुसरे व्यक्ति को भी प्रभावित कर देता है | जो व्यक्ति इस समस्या से ग्रषित है उसे जल्द ही निजी स्वास्थ केंद्र पर डॉक्टर से परामर्श लेने की आवश्यकता होती है | डॉक्टर इन्हें भली भांति निरिक्षण करने के बाद बीमारी का पता लगाने के लिए कई प्रकार के टेस्ट कराते है एवं टेस्ट के परिमाण देखने के बाद मरीज को कई एंटीबायोटिक दवा एवं साथ में इन्हें energetic दवा का सेवन करने का सलाह दिया जाता है | जो मरीज के द्वारा नियमित रूप से सेवन किया जाता है | अगर दवा का सेवन करने के 2 से 3 दिन में किसी प्रकार बदलाव या सेहत में सुधार नहीं दिखा तो तुरंत डॉक्टर से मिले |

Home Remedies of Pneumonia 

  • लहसुन – इसमें पाए जाने वाले सक्रीय तत्व के कारण यह मानव शरीर में antibiotic का काम करता है | जो हमारे शरीर में होने वाले वायरल एवं bacterial infection को ख़त्म करता है |
  • अदरक – लहसुन की भाती अदरक भी हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में अहम् योगदान निभाता है जो मानव शरीर में उत्पन्न साँस सम्बंधित समस्या को ख़त्म करता है |
  • तुलसी – यह एक ऐसा पौध है जिसका इस्तेमाल के लिए डॉक्टर भी सलाह देते है | तुलसी पौधे में  मौजूद तत्व fungal, viral एवं bacterial infection को ख़त्म करता है |
  • Vitamin C – शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अपने diet में vitamin c यूक्त भोजन का सेवन करना आरम्भ कर दे |
  • शहद – इसमें जितनी मिठास मौजूद होती है यह हमारे शरीर के लिए उतना ही फायदेमंद शाबित होता है | शहद का इस्तेमाल आपने diet में करे इससे आपके शरीर में किसी भी प्रकार का बक्टेरिअल इन्फेक्शन नहीं होगा और आपका शरीर स्वस्थ रहेगा |
  • मछली – ट्यूना एवं साल्‍मन मछली में ओमेगा फैटी एसिड अधिक मात्र में पाए जाते है जो बीमार शरीर के लिए काफी लाभदायक होता है |

Prevention

पुराने समय में आधे से अधिक लोगो की मौत का वजह कोई ना कोई बीमारी होती थी, क्योंकि उस समय medical science के पास बीमारियों से रोकथाम एवं इलाज के लिए ना तो vaccine थे और ना ही दवा | परन्तु अब समय के साथ साथ वैज्ञानिको के द्वारा कई प्रकार के दवा एवं vaccine की खोज की गई है जो बीमारी का रोकथाम एवं उसका उपचार करने में सक्षम होता है | निमोनिया से लोगो को बचने के लिए निम्न बचाव उपायों को आजमाना चाहिए :-

  • बच्चे को बचपन में लगाने वाले सभी टीकों को समय अनुसार लगाए |
  • आपने घर एवं आस-पडोस को साफ़ सुथरा रखे |
  • किसी से हाँथ मिलाने के बाद, नवजात बच्चे को गोद लेने के बाद और खाना खाने से पहले और खाने बाद हांथो को अच्छे से साफ़ करे |
  • घर में समय समय पर लकड़ी, गोबर से बने गोयठे या धुप को जलाए | इसके धुए घर में मौजूद बैक्टीरिया या virus को ख़त्म करने में सहायक होता है |
  • अगर आप धुम्रपान करते है तो इसे छोड़ दे | धूम्रपान मनुष्य के श्वसन संक्रमण विशेषकर निमोनिया के लिए अधिक संवेदी बना देता हैं |
  • मनुष्यों को छिकने एवं खासने के क्रम में आपने मुह को टिशु या रुमाल से ढकना चाहिए |
  • अपने शरीर को स्वस्थ एवं प्रतिक्षा प्रणाली को स्वस्थ बनाए रखने के लिए पर्याप्त आराम, स्वस्थ भोजन एवं नियमित व्यायाम करे |
  • अपने घर को हवादार एवं घर में आने वाले सूर्य के प्रकाश को नहीं रोके |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *