दुकान को चलाने के सही तरीके और टोटके

By | March 26, 2017

जब भी आप अपना दुकान खोलने की सोच रहे है तो इसे चलाने के तरीके पर जरुर ध्यान दे | जानिए कैसे आप अपनी shop में vridhi कर सकते है इन upay और टोटके को अपनाकर | प्राचीन काल से हमारे पूर्वज के द्वारा किसी शुभ कार्य या कोई भवन निर्माण या अपने व्यवसाय के लिए किसी दुकान का निर्माण या दुकान का चयन करते समय हम इसका निरिक्षण करते है | मनुष्य के द्वारा किये जाने वाले निरिक्षण के अंतर्गत दुकान का स्थान दुकान की दिशा और दुकान सम्बंधित आवश्यक वास्तु दोष को देखते है | इन सभी चीजो के सही होने पर ही हम अपने दुकान के लिए उस स्थान को सुनिश्चित करते है |

Shop ya dukan chalane ke tarike

दुकान लेकर उसे सुचारू ढंग से चलाने के मामले में एक बात कही गई है की व्यवसाय और जुवा दोनों एक समान है अगर चल पड़ी तो अच्छी वरना यह आपको पूरी तरह से बर्बाद कर के छोड़ेगी | दुकान को अच्छे से चलाने के लिए हमे कई महत्वपूर्ण बातो का ध्यान रखना अति आवश्यक है |अगर आपको नहीं पता तो हमारा आज का यह रचना इस विषय पर आधारित है | आइए जानते है दुकान को चलने के कुछ महत्वपूर्ण निम्नलिखित तरीके |

दुकान का चयन / Selection of Shop

दुकान के लिए उचित स्थान का चयन करना अति आवश्यक है | अगर आप अपने दुकान के लिए उचित स्थान का निर्णय नहीं करते है तो यह आपके धन्य योग को प्रभावित कर सकता है | दुकान के लिए स्थान का चयन हमेशा सघन इलाको में करे | साथ ही इस बात का ध्यान दे की दुकान का मुंह दक्षिण दिशा की ओर नहीं हो | यह दिशा अशुभ फलदायक है | दुकान का मुंह पूर्व या पश्चिम में हो तो यह आपके लिए फलदायक हो सकता है |

जब भी आप अपना shop rent पर लेने जा रहे हैं तो वास्तु शास्त्र के अनुसार दुकान ही ले, टेढ़ा, मेढ़ा shop होने से एक तो बरक्कत नहीं होती है दूसरी तरफ से आप space का सही use नहीं कर पाएंगे |

दुकान का नामांकरण

कहा जाता है की किसी का नाम उसके जीवन पर काफी असरदार होता है | नाम का असर अकसर लोगो में पाया गया है | ठीक उसी प्रकार आप अपने दुकान के नाम का चयन कुछ ऐसा करे जो आपके व्यवसाय को अग्रसर होने में मदद करे | कभी कभी यह भी देखा गया है की लोगो को आकर्षित करने में नाम का अहयम योगदान रहा है | लोगो को आकर्षित करने के लिए दुकान का सही नामांकन करना अति आवश्यक है |

पंजीकरण / Registration 

दुकान के लिए स्थान निर्धारण और इसका नामांकरण के उपरांत दुकान का पंजीकरण करना अति आवश्यक है | दुकान का पंजीकरण करना कानूनन करवाई है | अगर आप अपने दुकान का पंजीकरण कराते है तो सरकार के द्वारा आपको व्यवसाय करने के लिए अधिकार प्राप्त हो जाती है | पंजीकरण कराने के लिए आप अपने शहर के निगम कार्यालय में संपर्क कर अपने दुकान का पंजीकरण कराए |


उचित उत्पाद का चयन / Selection of right Goods

दुकान खोलने के लिए लोगो के सम्मुख सबसे बड़ी चुनौती यह आती है की दुकान किस चीज का खोले | दुकान में उत्पाद का चयन करने के लिए हमे बाजार का निरिक्षण करना आवश्यक है | बाजार का निरिक्षण करते समय इस बात का ध्यान दे, की आप जिस क्षेत्र में अपना दुकान खोलना चाहते है उस क्षेत्र में लोगो के द्वारा सर्वाधिक माँग किस वास्तु की है | उस क्षेत्र में किस चीज की दुकान नहीं है या उस उत्पाद का चयन करे जिसे लोगो को प्राप्त करने के लिए थोड़ी कठिनाई करनी पड़ती हो |

आज के दौर में कितनी ही shopping mall खुल गयी हो लेकिन किराने की दुकान का स्थान कोई नहीं ले सकता है |  इसलिए इन बातों का ख्याल रखे :

  • सामान की उचित कीमत, हमेशा MRP से कम price में देने की कोशिश करे, अगर आपके सामानों की price कम रहेगी तो आपकी तो sales ज्यादा होगी और अतः दुकान की बिक्री में वृद्धि भी होगी |
  • सामन का थोडा stock जरुर रखे ताकि customer खली हाथ नहीं लौटे |
  • बड़ा दुकान हो तो CCTV जरुर लगवाये ताकि चोरी होने की आशंका कम रहे |

वास्तु अनुसार दुकान

ऊपर निर्देशित सभी आवश्यकताओ के बाद हमे सामने यह समस्या होती है की दुकान में समान का समावेशन किस प्रकार करे जो ग्राहक को आकर्षित करे | तो आइए जानते है दुकान समावेशन के दरमियाँ दयां देने यौग्य कुछ वास्तु दोष के बारे में |

  • अगर आप दुकान में समान रखने के लिए अलमारी का निर्माण कर रहे है तो ध्यान दे की अलमारी दक्षिण या पश्चिम दिशा में हो |
  • दुकान के अन्दर उत्तरपूर्व (ईशान कोण) या दक्षिणपूर्व (आग्नेय कोण) दिशा का इस्तेमाल दुकान में बिक्री के सामान को नहीं रखे |
  • दुकान के शुभदायक फल के लिए दुकान में रखे जाने वाली इष्टदेव की मूर्ति या प्रतिमा को उत्तरपूर्व (ईशान कोण) दिशा में रखे |
  • दुकान में रखी जाने वाली तिजोरी या गल्ला दक्षिण या पश्चिम दिशा के दिवार के सहारे लगा है तो यह आपके दुकान के लिए काफी शुभ है |
  • दुकान की तिजोरी गल्ला और मालिक के बैठने वाले स्थान के अपर किसी भी प्रकार के भारी वस्तुओ को नहीं रखे |
  • दुकान के अन्दर की संरचना इस प्रकार करे की ग्राहक सामान के खरीदारी करते समय उसका मुहं उत्तर या पूर्व दिशा में हो |
  • अगर आप अपने दुकान में TV या Computer रखते है तो इसे दक्षिणपूर्व (आग्नेय कोण) दिशा में रखे यह आपके लिए लाभकारी शिद्ध हो सकता है |
  • अपने दुकान को हमेशा साफ़ और स्वस्छ रखे

ऐसा करने से आपकी व्यापर में वृद्धि होगी और आप सुखी संपन होंगे | परन्तु इस बात का ख्याल रहे की short term profit के चक्कर  में business में कभी भी बैमानी नहीं करे, ऐसा करने से आपकी reputation तो घटेगी ही और ऊपर वाले का आशीर्वाद भी नहीं मिलेगा |

 नम्रता पूर्वक बात करे

ध्यान रहे की दुकान चलाने और उसकी सफलता आपके  आपके बात वयव्हार पर भी निर्भर करती है | अगर आप मीठी बोली बोलेंगे तो आपके customer आपके पास दुबारा सामान लेने आएंगे | ऐसा करने से व्यापार बढाने में आपको काफी मदद मिलेगी |

इस बात का भी ख्याल रहे की कुछ customer का वयव्हार ख़राब रह सकता है, ऐसे स्थिति में आपको अपना आपा नहीं होना चाहये, बल्कि शांत रह कर उसे जाने दे |

पर इस बात का भी ख्याल रखे की अगर आप तन मन से सही तरीके से दुकान चलाएंगे तो बिक्री भी बढ़ेगी और आपके shop में business भी आएगा |

One thought on “दुकान को चलाने के सही तरीके और टोटके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *