Home Remedies for Acidity – एसिडिटी का घरेलू उपचार

By | May 27, 2015

List of proven home treatments for Acidity that work fast –  Indian and Ayurveda tips & ilaj जो की एसिडिटी / अम्लता से तुरंत आराम देता है – घेरुलू नुस्खे जो की पेट और छाती को तुरंत आराम देते है | Acidity जिसको अम्लता Hindi में बोला जाता है | आइये जाने gas treatment aur ilaj जो की आप Home पर भी इलाज कर सकते है |  अम्लता जो की पेट (stomach) में एक असहनीय पीड़ा होती है और रुक रुक कर पेट में जलन पैदा करती है. अगर आपको एसिडिटी या गैश (gas) की समस्या है तो आपको बार बार पेट में जोर की जलन जैसी मरोर (cramp) होगी. गैस के कारण तो कई बार छाती (chest) में भी जोर का दर्द होता है. जायदातर एसिडिटी खान पान में ignorance के चलते होती है. अगर आप जायदा तेल (oily), जंक फ़ूड (junk food) और मसालेदार खाने का सेवन करते है, या खली पेट (empty stomach) बिना कुछ खाए-पिए जायदा देर रहते है तो आपको Acidity होने  के chances जायदा है.

Stomach pain due to Acidity

एसिडिटी के होने के कारण / Acidity ke karan

Agar dhyan se dekha jaye to Acidity ka aasani se ilaj kiya jaa sakta hai wo bhi ghar par. Agar sahi tarike se acidity ka desi treatment kiya jaye to  is-se aap aasani se chutkara pa sakte hain. एसिडिटी जैसी समस्या हमारे रोजाना के भाग दौड़ के कारण जीवन शैली में होने वाले बदलाव के कारण होता है | हम अपना खानपान का ध्यान नहीं रख पाते है, साथ ही लम्बे समय तक लगातार खली पेट काम करते रहते है, जिस से एसिडिटी हमारे पेट में होने लगती है, ऐसी ही कुछ कारणों को निचे उल्लेख किया जा रहा है |

  • खाने की अनियमितता – इसके लिए सबसे अधिक जिम्मेदार हमारे खाने पिने के समय सीमा की अनियमितता है | अक्सर हम अपने खाने पिने कि समय का ध्यान नहीं रख पाते है | जिसके कारण कई बार इसके परिणाम स्वारूप हमारे पेट मे गैस बनने लगते है |
  • खाने को पूर्ण रूप से चबाकर नहीं खाने से भी acidity जैसे रोग हमारे शरीर में होने लगते है |
  • वैसे लोग जोड़ीं भर में पानी की काफी कम मात्रा का सेवन करते है, उनेह भी एसिडिटी जैसी समस्या जकड लेती है |
  • माशालेदार भोजन का सेवन भी एसिडिटी के उत्पन होने मे मुख्य भूमिका निभाता है | अत: मशालेदार भोजन और जंक फ़ूड junkfood जैसे खाद्य पदार्थो का कम सेवन करे |
  • तनावग्रस्त व्यक्ति अक्सर अपने तनाव को कम करने के लिए धुम्रपान आदि का सहारा लेता है | जिसके कारण वह एसिडिटी का शिकार हो सकता है |
  • अल्कोहल का अधिक सेवन करने से भी यह समस्याए होने लागती है |
  • आवश्यकता से अधिक खाना खाने से भी एसिडिटी होने लगता है | क्योकि ज्यादा खाना खाने से अतिरिक्त भोजन को पचाने में काफी समय लगता है | पूर्ण रूप से खाना के पचने से पहले कुछ भी खा लेने पर अतिरिक्त किया गया भोजन नहीं पाच (digest) पाता है | जिसके कारण यह problem होने लगती है |
  • देर रात में भोजन करने से भी खाना पूर्ण रूप से नहीं पचता है | जिसके कारण पेट में गैस बनने लगते है |

Home Treatment for Acidity / कैसे करे एसिडिटी का देसी इलाज

यदि आप एसिडिटी की समस्या से जूझ रहे है तो इन घरेलु उपायों (home remedies) के उपयोग करके Acidity से छूटकारा पा सकते है |

  • कॉफ़ी (coffee) को अपने पेय पदार्थ के रूप में कम से कम इस्तेमाल करे उसके स्थान पर आप कुछ और जैसे हर्बल चाय (herbal tea) या फिर कुछ ठंडी लस्सी (lassi) ,नीबूं पानी (lemon water) इय्यादि का उपयोग करने की कोशिश करे |
  • हर रोज सुबह उठने के बाद (after wake up) एवं रात में सोने से पहले गरम पानी को हल्का ठंडा (सुसुम ) कर इस्तेमाल करना चाहिए|
  • अपने रोजाने की खाध्य पदार्थो में हरे ताज़े फलो को सामिल करे जिनमें मुख्या रूप से केला (banana), तरबूज (water melon) और खीरा जैसे पानी वाली फलो ककड़ी (cucumber) का उपयोग ज्यादा से ज्यादा करनी चाहिए |
  • हर रोज दिन में कम से कम एक बार सुबह या साम में एक ग्लास दूध (milk) सेवन की कोशिश कीजिये |
  • अपना प्रतिदिन के भोजन करने का समय निश्चित कर ले एवं रात का भोजन सोने से दो या तीन घंटा पहले करने की कोशिश करे |
  • एसिडिटी  होने का मुख्यां कारणों में काफी शमय तक भोजन न करना या फिर भोजन करने के बिच का अन्तराल का अधिक होना है | अंत समय समय पर कुछ खाते रहना चाहिए , जिससे पेट खाली न रहे | जहा भी जाये अपने साथ बिस्कुट या फिर अन्य खाने की चीज(dry food) हमेशा अपने साथ रखें  |
  • वैस्से कोई भी खाने के सामान जिनको बनाने में मसालों (spices) का उपयोग हुआ हो उसे कम इस्तेमाल करे | जैसे सिरका (vinegar) ,तिखी चटनी , अचार(pickle) आदि |

 


आयुर्वेदिक उपचार से एसिडिटी का निदान (Ayurvedic treatment for Acidity)

अगर आप निचे बतलाये गए आयुर्वेदिक नुस्खे से इलाज करेंगे तो आपको जल्द राहत मिलेगी और कोई side-effect की संभावना भी नहीं रहेगी :

how acidity forms in stomach and create pain

  • नीबूं (lemon) और अदरक (ginger) का रस को सहद (honey) में मिलाकर रोजाना इस्तेमाल करने से पेट में एसिडिटी(acidity) से होने वाली जलन को संत किया जा सकता है |
  • इलायची (cardamom) जिसको को Elaichi भी बोला जाता है, एक आसन से मिलने वाली फल है जिसका उपयोग प्रत्येक Indian घर में विभिन्न प्रकार के सब्जियों को बनाने में किया जाता है | इल्लैय्ची का उपयोग करने से भी कब्ज एवं एसिडिटी से होने वाली जलन को ठीक किया जा सकता है |
  • लहसुन (garlic) ;- पेट से सम्बंधित सभी प्रकार की बीमारी के लिए लहसुन एक उपयोगी उपचार मन जाता है | कब्ज की शिकायत को दूर करने के लिए लहसुन(garlic) का शेवन भी लाभदायक होता है |
  • सौंफ(fennel) ;- रोजाना सौंफ के उपयोग कब्ज से होने वाले जलन से छुटकारा पाने में मदद मिलती है , साथ –साथ इसके रोज इस्तेमाल करने से धीरे-धीरे पेट की पाचन सकती में बढौतरी होती है |
  • मेथी (fenugreek seeds) ;- मेथी पेट की जलन से निजत या छुटकारा पाने के लिए अत्यंत  लाभकारी घरेलु नुस्खों में से एक है  | इसके पत्तो में कई लाभलारी गुंण मिलते है , जिस्से कब्ज एवं एसिडिटी से होने वाली शिकायतों को दूर किया जा सकता है |

मनुष्य का मन हमेशा चटपटा और मसालेदार खाने का इक्षा जागृत होती है परन्तु हम अपने इक्षा को दबा भी नहीं सकते और चटपटा खाने को उतावले हो जाते है | उत्तवालेपन में हम चटपटा खा तो लेते है पर खाने के कुछ समय के बाद पेट में अम्ल पित्त बनाना आरम्भ हो जाता है | अगर आप अपने इक्षा को दबा नहीं सकते और अपना पेट को भी स्वस्थ रखना चाहते है तो हमारे इस रचना को पढ़े जो आपके इक्षा के आगे आपके पेट को नहीं आने देगा |

Homeopathic medicine for Acidity

काफी सारे लोग जानना चाहते है की कैसे homeopathic medicine से एसिडिटी का इलाज किया जा सकता है, और इसलिए

  • अगर भोजन के उपरांत भोजन के नली में जलन का अनुभव हो रहा है या आपका जी मचला रहा है तो आप एसिड सल्फ़ 30 का इस्तेमाल हर 4 घंटे के अंतराल में करे |
  • अगर आपको मीठा खाने का इक्षा हो रही है परन्तु पेट के ख़राब होने के डर से नहीं खा रहे है तो आप बिंदास खाए और पेट के ख़राब होने पर हर चार घंटे पर अर्जेन्टम निट 30 का सेवन करे |
  • आपको अपने प्रिय भोजन मिलने पर हम स्वयं को रोक नहीं पाते और पेट भर खाते है और खाना खाने के उपरांत पेट में वायु विकार उत्पन्न हो जाता है | अगर आपको ऐसा हो तो पल्साटिला 30 का सेवाम हर 4 घंटे के अंतराल में करे |
  • भोजन के उपरांत पेट में Hyper Acidity या तेज चुभन हो रहा हो तो आइरिस वर्सी 30 का सेवन हर चार घंटे पर करे |
  • धीमी और गड़बड़ पाचन क्रिया के कारण पेट में पेडू के उपरी भाग में तेज दर्द हो एवं डकार उत्पन्न हो रहा हो तो कार्बो वेज 30 का सेवन हर 4 घंटे पर करे |
  • कभी कभी ऐसा भी होता है की लोग कुछ भी खा लेते है जिससे पेट में गैस उत्पन्न होने लगाती है | अगर आपके पेट में भी ऐसी समस्या हो तो आप नक्स वोमिका 30 का सेवन 4 घंटे के अंतराल में करे |
  • अगर आप पेट में गैस से परेशान है या खट्टे डकार आ रहे है तो आप रोबिनिया 30 का सेवन 4 घंटे के अंतराल में करे |
  • अगर आपके पेट में acidity की समस्या उत्पन्न हो रही है और थोड़े से खाने में आपका पेट भरा हुआ महसूस हो रहा है तो आप हर 4 घंटे के अंतराल में लाइकोपोडियम 30 का सेवन करे |

English Summary

Home Treatment for Acidity and Gas 

If you suffering from stomach pain due to gas or acidity then using this simple home and Ayurveda technique can help you provide instant relief.  Always make habit to have something like milk, snacks etc in few interval of time so that there won’t be any space to form gas.  Drink plenty of water, avoid coffee, and add fruits like banana, water melon etc that will help to get rid of acidity instantly.

4 thoughts on “Home Remedies for Acidity – एसिडिटी का घरेलू उपचार

  1. sikandar

    Sir,mere father ko high acidity hai so plz
    Koi safal illai bataiye.thanks

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *