Vastu Shastra for Home Construction Tips – वास्तु शास्त्र

By | March 17, 2016

Janiye Vastu Shastra (वास्तु शास्त्र) ke anusar kaise home construction hona chahiye. अचूक tips जो की Ghar ke map, entrance, pooja room, kitchen, bathoom, bedroom से ले कर color selection तक kaise kare | घर की सुख और शान्ति के लिए हम क्या नहीं करते गृह-शान्ति हवन से लेकर वास्तु तक। किन्तु क्या आप यह जानते हैं की आपके घर का वास्तु आपकी सुख शान्ति के उपरोक्त है की नहीं। वास्तु का अर्थ है एक घर जहाँ मनुष्य और भगवान का एक साथ वास हो, वास्तु शास्त्र आपके आस पास के वातावरण को संतुलित करने के साथ ही यह आपके जीवन को भी काफी हद तक प्रभावित करता है। यह एक कला की तरह होता है। वास्तु का हमारे जीवन में यह महत्व की यह हमें, हमारे प्रिय जनो को और निवासस्थान को नकारात्मक ऊर्जाओं से बचाता है। और यह भी सत्य है की वास्तुशास्त्र निर्मान करने का प्राचीन भारतीय विज्ञान है । परन्तु क्या आप वास्तु की असली शक्ति को पहचानते हैं?, अगर नहीं तो कुछ सरल उपाय आपके जीवन को बेहतर बना सकता हैं।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर / Kaisa ho Vastu Shastra ke Anusar aapka Ghar

Agar dekha jaye to aaj Vastu Shastra ke kuch simple tips apnakar ghar mein sukh shanti lane mein kafi madadgar sabit ho sakti hai. Janiye aakhir kin chijon ka khyal rakh kar aap Vastu Shastra se home, kicthen se le kar dedroom mein choti choti changes kr ke sukh shanti ko laa sakte hain:

1घर का नक्शा / House Map

घर की बनावट का आकार हम ऐसा बनाया करतें की देखने वाले तारीफ़ करे। लेकिन घर की गलत दिशा ही संकट ले आ सकती है। घर के निर्माण से पूर्व यह सुनिश्चित जरुर कर लिया जाये की ज़मीन साफ़ हो किसी भी प्रकार की गन्दगी और न ही झाड़ियाँ हो। यह नीव की आधारशीला के लिए सही नहीं।नींव का काम दक्षिण-पश्चिम कोने से दक्षिण-पूर्व और उत्तर-पश्चिम से उत्तर-पूर्व और उत्तर-पश्चिम और दक्षिण की दिशा में आगे बढ़ना चाहिए और उसके बाद घर निर्माण करना चाहिए।

2. घर का मुख्य द्वार / House Entrance

 

Entrace Gate as per Vastu Shastra

घर का मुख्य द्वार (Entrance gate) ही सुख शांति और समृद्धि को बुलाने का तरीका है। घर का द्वार अगर सही दिशा (direction)  में न हो तो नकारात्मक ऊर्जाओं को आने में देर नहीं लगती। घर के द्वार के लिए सही दिशाओं का आंकलन किया जाना चाहिए कम से कम दो मुख्य द्वार रखने ही चाहिए। प्रवेश द्वार सकारात्मक दिशा में होना चाहिए और कोनों से दूर हो। पूर्व और उत्तर की दिशा वाली ज़मीन पर पूर्व, पूर्वोत्तर और उत्तर में द्वार हो। दक्षिण मुखी ज़मीन के लिए दक्षिण-पूर्व और दक्षिण लाभकरी होता है। पश्चिमी दिशा के लिए पश्चिम और उत्तर-पश्चिम सही माना जाता है।

3. पूजा कक्ष / Pooja Room

Puja Room as per Vastu Shastra

घर में भगवान का वास सबसे महत्वपूर्ण होता है।यह वह जगह है जहां आप ध्यान और पूजा करते हैं।इसलिए, यह भगवान से कनेक्ट करने के लिए ओर सकारात्मक ऊर्जा हासिल करने के लिए महत्वपूर्ण है। पूजा के कमरे के लिए सबसे अच्छा स्थान पूर्वोत्तर दिशा जिसे ईशान कोण भी बोला जाता है।उत्तर दिशा में पूजा के कमरे से सकारात्मक परिणाम होता है। आप पूर्व, उत्तर और उत्तर-पूर्व दिशाओं के लिए जा सकते हैं।मूर्तियों को पूजा के कमरे के पूर्वोत्तर हिस्से में रखा जाना चाहिए। मूर्ति को एक दुसरे के सामने नहीं रखना चाहिए और साथ ही साथ इस बात का ख्याल रखन चाहिए की पूजा रूम के दरवाजे के घुसते के सामने भी कोई मूर्ति नहीं होने चाहिए।

4. रसोई / Kitchen

Ghar ka Kitchen kaisa ho Vastu Shastra ke anusar

रसोई वह जगह है जहाँ गृहिणियों का सबसे अधिक समय खर्च होता है।रसोई घर जो परिवार के स्वास्थ्य के लिए स्रोत के रूप में माना जा सकता है।वास्तु को ध्यान में रख रसोई घर में सुरक्षा सुनिश्चित करना है। रसोई आपके घर के दक्षिणपूर्व (South-East) दिशा की ओर हो और दूसरी सही दिशा उत्तर-पश्चिम सबसे उत्तम मानी जाती है। सुनिश्चित करें कि खाना पकाने का प्लेटफार्म पूर्वी (Eastern) या उत्तरी (Northern) की दीवार स्पर्श नहीं कर रहा हो। बर्तन धोने के लिए उत्तर-पूर्व दिशा का इस्तमाल करें।उत्तर-पश्चिम भंडारण के लिए सबसे अच्छी दिशा है।

5. शौचालय / Bathroom                    

जब घर के लिए वास्तु पर विचार कर रहे हैं, तो आप नियम और वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) के दिशा निर्देशों के अनुसार अपने घर में शौचालय और बाथरूम को बनाने के लिए विशेष ध्यान दें। अगर शौचालय और बाथरूम नकारात्मक ऊर्जा का एक प्रमुख स्रोत है, तो वे नियमों और वास्तु के दिशा निर्देशों के अनुसार नहीं बनी हैं । वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का शौचालय हमेशा पश्चिम या उत्तरपश्चिम (North-West)दिशा में स्थित होना चाहिए।घर के केंद्र, पूर्व, उत्तर-पूर्व में शौचालय के निर्माण से बचें।यह कभी भी पूजा-कक्ष से जुड़ा ना हो और रसोई और सीढ़ियों के नीचे नहीं होना चाहिए।

6. घर का रंग / House Color

House Color as per Vastu Shastra

रंग (color) हमारे मन को प्रभावित करती और आत्मा जिससे ध्यान से और हंसमुख निर्णय लेने की क्षमता को बढ़ाने में कारगर साबित होती है । यह आपको शांत , मूड को प्रोत्साहित करने में मदद करता है, अच्छे स्वास्थ्य देता है । घर में कौन से रंगों का प्रयोग हो और किस दिशा में हो:

  • पूर्व दिशा में सफ़ेद – White color for East
  • पश्चिम दिशा में नीले रंग – Blue color for West
  • उत्तर में हरे – Green color for North
  • दक्षिण में गुलाबी, लाल – Red or Pink color for South

वहीं दुसरे स्थान जैसे

  • उतर-पूर्व में:  हरे, पीले और नीले रंग
  • दक्षिण-पश्चिम में भूरे रंग
  • दक्षिण-पूर्व में चांदी जैसा सफेद और
  • उत्तर-पूर्व में भी सफ़ेद रंग शुभ मने जाते हैं।

7.  सोने का रूम / Bedroom

Bed room as per Vastu Shastra

Vastu Shastra mein bhi bedroom ke bare mein kai tips diye gaye hain. घर में जिस प्रकार बाकी सभी चीजो का होना जितना आवश्यक है उतना ही आवश्यक bed room भी है | घर बनाते समय हमे अपने bed room  को सही दिशा में रखना अतिआवश्यक है | अगर इसकी दिशा गलत हो तो ये हमारे घर में सकारात्मक उर्जा को प्रभावित करता है | इसलिए हमे अपने घर के मुखिया या आप जिसे Head Person  कहते है इनका कमरा हमेशा दक्षिण-पश्चिम में होना चाहिए और साथ ही साथ बच्चो का कमरा पूर्व या पश्चिम में और अतिथि कमरा (Guest Room) उत्तर-पश्चिम दिशा में होनी चाहिए | Bed Room बनाते समय ध्यान रहे की कमरा हमेसा rectangular या square में हो | ये तो हो गई बाते कमरे की दिशा की अब आइये जानते है इसकी भीतरी जानकारी | कमरे में हमेशा लकड़ी के furniture का का इस्तेमाल करे जा तक हो सके लोहे का furniture का इस्तेमाल कम करे | Bed को कभी भी entrance gate  के सामने न लगाए और इसके सामने किसी प्रकार का शीशा या दर्पण का इस्तेमाल न करे | अपने सारे electronic उपकरण को अपने bed से थोडा दूर रखे इससे निकलने वाले तरंग आपके सेहत के लिए आच्छे नहीं है | कमरे में कभी भी उत्तर दिशा की और सर करके नि सोना चाहिए क्युकी scientist के अनुसार उत्तर दिशा में चुम्बकीये क्षेत्र (magnetic field) अधिक होता है जो हमारे स्वास्थ के लिए नुकसानदेह है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *