Vastu Tips for Business Growth and Success – वास्तु शास्त्र

By | June 24, 2016

Janiye wo kaun se Vastu Shastra ke tips hai jise apnakar aap business ke growth ko badha sakte hain. किस तरह से office का setup होना चाहिए ताकि success हमेशा मिले | वास्तु शास्त्र एक प्रकार का विज्ञान है, जो वास्तुकला और निर्माण कार्य से संबंधित है | वास्तु शास्त्र वास्तु विद्या का एक अहम् हिस्सा है जिसका सम्बन्ध अथर्ववेद से है, जो वास्तुकला के क्षेत्र में दिशा निर्देश देता है | वास्तु शास्त्र के अनुसार बने घर में सुख शांति स्तापित रहती है, ठीक इसी प्रकार ये हमारे व्यवसाय में भी उतार चड़ाव में काफी असरदार साबित होता है |

Vastu Shastra to grow Business

जिस प्रकार घर में वास्तु शास्त्र का एक अहम् भूमिका है शुख शांति का, ठीक उसी प्रकार ये हमारे व्यवसाय में भी काफी अहम् भूमिका निभाती है किसी company को नियमित और व्यवस्थित रूप से लाभ कमाने में | आज हर एक इंसान की ये पहली जरुरत होती है की वह अपनी कंपनी का निर्माण वास्तु शास्त्र के हिसाब से करे |

अपने व्यवसाय के शुरुआत करे से पूर्व जानते है कुछ जरुरी वास्तु Tips, जो हमारे Business की उन्नति में सहायक सिद्ध होगी |

Vastu Tips to Grow Business

Waise to business ka growth aapke kaam karne ke tarike, hard work aur dedication par depend karta hai. Par kai baar agar aap Vastu Shastra ke anusar apne office aur work place to thoda adjust karte hai to aapko iske kafi acche parinam mil sakte hain. To chaliye jante hai wo kaun se tips hai jinse aapki business ko growth raftar pakdegi:

  • अगर आप अपने company हेतु किसी जमीन की खरीदारी करना चाहते है तो इन बातो का ध्यान रखे की जमीन road से नजदीक हो और साथ ही plot सामने से चौड़ा और पीछे से संकीर्ण हो |
  • कार्यालय ये company के निर्माण से पूर्व ये ध्यान दे की building का face उत्तर, उत्तर-पूर्व या उत्तर-पश्चिम में होना चाहिए, ये दिशा अच्छी सोच और सकारात्मक उर्जा का प्रवाह करता है |
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार building का interance उत्तर या पूर्व दिशा में होना चाहिए और इसके interance पर एसा कुछ निर्माण न करे जो interance में बढ़ा उत्पन्न करे |
  • Building में office का निर्माण हमेशा उत्तर-पूर्व दिशा में करे |
  • Building में मालिक का ऑफिस या कमरा का निर्माण दक्षिण-पश्चिम में हो और मालिक का face उत्तर दिशा में हो |
  • Office में कर्मचारियों का table इस प्रकार से सुसजित करे की इनका face उत्तर या पूर्व दिशा में हो |
  • कर्मचारियों का table का shape rectangular या square में हो |
  • Building के सारे विधुत उपकरण दक्षिण-पूर्व दिशा में स्थापित होना चाहिए |
  • अगर आपका व्यवसाय manufacturing से संबंधित है तो इसकी शुरुआत दक्षिण से होनी चाहिए, तत्पश्चात उत्तर उसके बाद पश्चिम और अंत में पूर्व की और बढ़नी चाहिए |

इसके अलावे आप घर बनाने के लिए वास्तु शास्त्र  के बारे में जानकारी यहाँ से पढ़ सकते हैं |

Office Setup as per Vastu Shastra

Iske alawe aapko office mein har ke department ko Vastu ke anusar unka place fix karna hoga taki positive energy ke saath sabhi koi kaam kar payen:

  • प्रवेश द्वार की दिशा पूर्व या उत्तर होनी चाहिए
  • मालिक के कमरे का दिशा दक्षिण पश्चिम होना चाहिए
  • Accounts department हमेशा दक्षिण पूर्व में होना चाहिए
  • Cashier office की दिशा हमेशा उत्तर होनी चाहिए
  • मार्केटिंग विभाग की दिशा उत्तर पश्चिम होनी चाहिए
  • Staff का face उत्तर पश्चिम होनी चाहिए
  • प्रहरी कक्ष की दिशा उत्तर पश्चिम होनी चाहिए
  • सम्मेलन का कमरा का दिशा उत्तर पश्चिम होनी चाहिए
  • Reception हमेशा उत्तर पूर्व में होनी चाहिए और साथ ही receptionist का मुख पूर्व या उत्तर दिशा में होनी चाहिए

Agar aapko upar diye gaye tips ke alawe bhi aur koi upay ki jaankari ho jisse business ke growth mein help mile to mere saath jarur share kare.

Related posts:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *