केंचुआ खाद – Vermicompost Benefits in Hindi

By | July 18, 2017

केंचुआ खाद जिसे हम Vermicompost कहते हैं Hindi में | जानिए इसके benefits, कैसे यह खेतों की उर्वरकता बढाता है और सावधानियाँ से जुडी information. यह एक प्रकार का खाद है जो की कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होता है, इस खाद को उत्तम जैव उर्वरक भी कह सकते है | वर्मीकंपोस्टिंग एक प्रकार की खाद है जिसमें organic waste को conversion करने की प्रक्रिया को बढ़ाने और एक बेहतर end-product का उत्पादन करने के लिए कुछ प्रकार की earthworms का उपयोग किया जाता है । यह सूक्ष्मजीवों और कीटनाशकों का उपयोग करने वाली एक mesophilic प्रक्रिया है | केंचुआ waste materials को खा कर ये waste materials उनके पाचन तंत्र से गुजर कर granular (cocoons) के रूप में बाहर निकलती है जिसके जिसे Vermicompost कहा जाता है |अगर आप इसे आसान सब्दों में समझे तो यह केंचुआ का मल होता है |

Vermicompost se judi jankari in Hindi

केंचुआ खाद में water-soluble nutrients होते हैं जो की एक उत्कृष्ट, पोषक तत्व युक्त जैविक उर्वरक है यह soil conditioner की तरह भी काम करता है | इस खाद को खेती और छोटे पैमाने पर स्थायी, जैविक खेती में प्रयोग किया जाता है | इस खाद को sewage sludge के उपचार के लिए भी प्रयोग किया जाता है |

केंचुआ खाद के फायदे / Vermicompost Benefits

जैसा की हम जानते है की यह एक तरह का organic manure है जो की खेतों की उर्वरकता को बढ़ाता है और बिना किसी नुक्सान के फसलों में 10 से 15 % तक productivity बढाता है |

भूमि की गुणवत्ता में सुधार : Vermicompost भूमि की गुणवत्ता को सुधारने में बहुत मदद करता है, क्योकि इस खाद में उत्कृष्ट, पोषक मौजूद होते हैं | केंचुआ organic waste को भूमि के अंदर ले जाते हैं और उन्हें खा कर खाद के रूप में परिवर्तित कर देते हैं | केंचुआ organic waste को खा कर मल को रात के वक्त ही छोड़ते हैं जिसके कारण मिटटी की air communication की क्षमता बढ़ जाती है | मिटटी की निरंतर जुताई earthworms के द्वारा की जाने के कारण स्थायी मिट्टी कणों का निर्माण होता है | जिससे soil texture में सुधार होता है, इसके अलावा यह मिटटी के air communication में भी सुधार लाता है |


भूमि के उर्वरता में सुधार : यह पोषक तत्व प्रदान कर के भूमि की उर्वरता को बढाता है, और ये पोषक तत्वों पौधे के अच्छे growth में बहुत मदद करते हैं | earthworm compost में ऐसे hormones मौजूद होते हैं जो पौधे के बढ़ने में मदद करते हैं | इस खाद का इस्तेमाल करने से बीज अंकुरण को प्रोत्साहित किया जाता है, पौधे की वृद्धि मजबूत होती है और फसल की पैदावार में सुधार होती है | मिट्टी के माध्यम से खाद का वितरण स्वस्थ जड़ो के विकास को प्रोत्साहित करने में भी मदद करता है |

Water Retention: वर्मीकम्पोस्ट एकतरह का colloid है जो पानी को अपने अनदर अपने वजन से नौ गुना अधिक तक रखता है । इस खाद में पानी को एक organic स्तर पर आयोजित किया जाता है, इसलिए भूमि से पानी धीरे-धीरे लुप्त होती है, जो की सूखे के दिनों में पौधे के विकाश में मदद करती है |

Recycles Wastes : यह कई विभिन्न प्रकार के जैविक अपशिष्टों ( waste) को पुनरावृत्ति (recycle ) करने में मदद करता है | एक वर्मीकंपोस्टिंग को तैयार करने के लिए कच्ची सामग्री आसानी से ज्यादातर घरों में ही उपलब्ध हो जाती है । वे रसोई के waste, पत्ते और अन्य yard कचरा, और खाद एवं अन्य जैविक अपशिष्ट पदार्थों हो सकते हैं | हड्डियाँ और fatty substances ही एकमात्र ऐसे organic wastes है जो केंचुवे compost नहीं कर सकते हैं |

Helps the Environment : वर्मीकंपोस्ट एक renewable और पर्यावरण अनुकूल संसाधन है । यह एक पूरी तरह प्राकृतिक उत्पाद है, वर्मीकंपोस्ट रासायनिक उर्वरकों का इस्तेमाल करने की आवश्यकता को कम करने में मदद कर सकता है | केंचुआ खाद, landfills में निकाली गई जैविक कचरे की मात्रा को कम करने में भी मदद कर सकता है |

सावधानियाँ / Precautions

  • केंचुआ खाद का इस्तेमाल करने के बाद किसी प्रकार का chemical fertilizer या pesticide का इस्तेमाल न करे |
  • इसके निर्माण करने के लिए जिन केंचुओं का इस्तेमाल कर रहे हैं उन्हें नियमित अच्छी किस्म के Organic material ही दे |
  • केंचुवों को उचित मात्रा में Organic material और नमी प्रदान करे, ऐसा करने से केचुँए अधिक क्रियाशील रहती है और एक अच्छी quality के खाद का निर्माण करते हैं |

 

2 thoughts on “केंचुआ खाद – Vermicompost Benefits in Hindi

  1. Ankur singhal

    Sir can we use earthworms directly in place of vermicompost and how it can be use..thanks

    Reply
    1. Bhagat Post author

      Yes, but make sure that whatever cow dung you are adding, it must be at least 10 to 15 days old.

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *